fbpx Press "Enter" to skip to content

भागलपुर के वरिष्ठ भाजपा कार्यकर्ता हरिवंश मणि सिंह से खास बात चीत

  • पार्टी कई मुद्दों पर विचार कर टिकट देती है

  • जिसे भी मिले, उसके पीछे पूरा संगठन होगा

  • भाजपा के पूर्व पराजय के कारण भी गिनाये

  • व्यक्ति नहीं नीति और सिद्धांत पर काम करते हैं

दीपक नौरंगी

भागलपुरः भागलपुर के वरिष्ठ भाजपा कार्यकर्ता हरिवंश मणि सिंह ने साफ कर दिया कि

जनसंघ और बाद में भारतीय जनता पार्टी से वह लंबे समय से जुड़े रहे हैं। यूं कहें तो

भागलपुर में संघ के वह सबसे पुराने कार्यकर्ता हैं।

करीब चालीस मिनट के वीडियो में देखिये उन्होंने क्या कहा

उनके जैसे लोगों का मानना है कि संगठन में व्यक्ति नहीं नीति और सिद्धांत महत्वपूर्ण

होते हैं। वैसे वह इस बात से भी इंकार नहीं करते कि समय के साथ बहुत कुछ बदला भी है

लेकिन आंतरिक स्वरुप बिल्कुल पूर्ववत ही है। आसन्न विधानसभा चुनाव के दौरान उनके

कई मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई। इस दौरान भागलपुर के वरिष्ठ भाजपा नेता श्री सिंह ने 

पूर्व के चुनावों में पार्टी के प्रत्याशी के पराजय के आंतरिक कारण भी गिनाये और कहा कि

पार्टी के एकजुट नहीं रहने की वजह से ही पार्टी को भागलपुर की सीट से हाथ धोना पड़ा है।

वह मानते हैं कि भागलपुर में भाजपा समर्थक अनेक लोग हैं। कई बार प्रत्याशियों के

चयन का फैसला जब ऐसे समर्थकों को पसंद नहीं आता तो पार्टी की हार होती है। वरना

आज भी भाजपा यहां के किसी भी चुनाव के लिए बड़ी चुनौती है।

भागलपुर में अश्विनी चौबे के पूर्व के लगातार पोस्टर लगाये जाने और उनकी संभावित

उम्मीदवारी पर उनका दो टूक कहना था कि पोस्टर तो कोई भी लगा सकता है, इस पर

कोई रोक भी नहीं है। लेकिन प्रत्याशी कौन होगा, यह तय करना पार्टी नेतृत्व की

जिम्मेदारी है। उन्होंने स्पष्ट किया कि पार्टी को प्रत्याशी के चयन में सिर्फ एक स्थान ही

नहीं पूरे राज्य के जातिगत समीकरणों का भी ध्यान रखना पड़ता है। इसलिए प्रत्याशी की

घोषणा होने के पहले इस पर टिप्पणी गलत होगी कि कौन सा प्रत्याशी जीत की अधिक

संभावना रखता है। वैसे जब प्रत्याशी के नाम का एलान हो जाएगा तो सभी भाजपा

समर्थक उनके लिए मैदान में कूद पड़ेंगे।

भागलपुर के वरिष्ठ नेता से अंदरखाने की चर्चा पर भी सवाल

भागलपुर में भाजपा प्रत्याशी के नाम पर चल रही अंदरखाने की चर्चा पर भी उनसे सवाल

किये गये थे। किसी प्रत्याशी के समर्थन में कौन कौन नेता रहेंगे अथवा नहीं रहेंगे, इस

बात पर भाजपा के अंदर ही काफी मंथन हो रहा है। वैसे अगले चौबीस घंटों के भीतर

प्रत्याशियों के नामों की घोषणा भी होने की चर्चा है। इसके बीच भाजपा के इस सबसे पुराने

नेता के बयान को काफी महत्वपूर्ण समझा जा रहा है।

[subscribe2]

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहार विधानसभा चुनाव 2020More posts in बिहार विधानसभा चुनाव 2020 »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

One Comment

... ... ...
%d bloggers like this: