fbpx Press "Enter" to skip to content

रेलवे टिकट की जल्द बुकिंग का धंधा पूरे देश में, एक युवक पकड़ाया




  • मोतिहारी का युवक आरपीएफ के हत्थे चढ़ गया

  • पकड़े जाने के बाद कर रहा है लगातार खुलासे

  • पूरे देश में फैला है इस गोरखधंधे का जाल

दीपक नौरंगी

भागलपुरः रेलवे टिकट जब हमलोग बुक करना चाहते हैं तो उसमें वक्त लगता है। कई

बार ऑनलाइन बुकिंग प्रारंभ होने के पहले से ही इस ऑनलाइन कतार में होने के बाद भी

टिकट की बारी आने के पहले ही सारी टिकटें बिक जाया करती हैं। अरुण कुमार जब

आरपीएफ के डीजी बने थे तभी से उन्होंने इस पर ध्यान देना प्रारंभ कर दिया था। अवैध

साफ्टवेयर के जरिए जल्दी रेलवे टिकट बुक करने का एक बड़ा कारोबार पूरे देश में फैला

हुआ है। जब इस दिशा में डीजी अरुण कुमार के निर्देश पर कार्रवाई प्रारंभ हुई तो देश के

कई कोने से इस धंधे में शामिल लोगों के गिरफ्तार होने का सिलसिला प्रारंभ हो गया। इस

बार मोतिहारी के ढाका थाना का नजीम अंसारी भागलपुर आरपीएफ के हत्थे चढ़ा है। वह

भी अवैध साफ्टवेयर के जरिए रेलवे टिकट बुकिंग का काम किया करता था। उसके पकड़े

जाने के पहले ही देश के कई हिस्सों से ऐसा अवैध कारोबार करने वाले अनेक लोग पकड़े

जा चुके हैं। दरअसल इन्हीं अवैध साफ्टवेयरों की वजह से सही तरीके से टिकट खरीदने के

इच्छुक लोगों को टिकट नहीं मिल पाया करता है। दूसरी तरफ इस धंधे से जुड़े लोग आम

लोगों को अधिक पैसा लेकर यह टिकट उपलब्ध करा दिया करते हैं। गिरफ्तार युवक

नजीम अंसारी ने कहा कि उनका काम अवैध साफ्टवेयर का ही था। इसकी मदद से वे

नकली आईडी के जरिए तत्काल टिकट खरीदा करते थे। एक आईडी बनाकर यह काम

करने में उसे मात्र दो सौ से तीन सौ रुपये ही मिलते थे। राष्ट्रीय खबर से बात करते हुए इस

युवक ने बताया कि रेलवे टिकट को इस तरीके से हासिल करने का काम भी उसने सोशल

मीडिया देखकर सीखा है।

रेलवे टिकटों का यह गोरखधंधा सोशल मीडिया से सीखा

वह फेसबुक और यूट्यूब पर इस संबंध में आने वाली सूचनाओं को ध्यान से देखता था।

चूंकि उसकी इसमे रुचि थी तो उसने भी अपनी तरफ से प्रयास किया और चंद दिनों के

प्रयास के बाद वह इसमें सफल हो गया। 22 वर्षीय इस युवक ने बताया कि उसने इंटर की

परीक्षा दी है।

वीडियो में समझिये इस पूरे माजरे को

भागलपुर आरपीएफ इंस्पेक्टर अनिल कुमार सिंह ने इसकी गिरफ्तारी की पुष्टि की है

इसका एक बड़ा गैंग काम कर रहा है पूरे देश में जिसमें आरपीएफ डीजी अरुण कुमार का

बहुत महत्वपूर्ण रोल रहा है बिहार और झारखंड के कई जिलों मैं यह गैंग काम कर रहा है

बिहार, झारखंड, मुंबई, दिल्ली, बंगाल, लखनऊ और कई राज्यों से गैंग के लोग गिरफ्तार

होकर जेल गए हैं। उन्होंने बताया कि नवंबर 2020 में एक छापामारी हुई थी। उसमें

गिरफ्तार दीपक कुमार नामक युवक ने पहली बार रेलवे टिकट के गोरखधंधे में नजीम

अंसारी का नाम आया था। निरंतर जांच के दौरान यह पता चला कि इस युवक का पेटीएम

का खाता 27 एजेंटों से जुड़ा हुआ था। वैसे इंस्पेक्टर सिंह ने कहा कि नजीम के ऊपर भी

कुछ लोग होंगे, जिनकी जांच अभी चल रही है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: