fbpx Press "Enter" to skip to content

गरीबों के मददगार के तौर पर काम कर रही भागलपुर पुलिस

दीपक नौरंगी

भागलपुरः गरीबों के मददगार के तौर पर अभी भागलपुर पुलिस की भूमिका बनी हुई है।

आम तौर पर यह पुलिस की परिचित छवि से बिल्कुल उल्टा है। वैसे भी यह सर्वविदित है

कि पूरे देश में बिहार पुलिस की छवि कोई अच्छी नहीं रही है। लेकिन कोरोना से उत्पन्न

विकट परिस्थितियों के बीच अपने चंद दिनों के निरंतर प्रयास से भागलपुर पुलिस ने

अपनी छवि को सुधारने के साथ साथ बिहार पुलिस के साथ जुड़ी सोच को भी समाप्त

करने का काम किया है।

वीडियो में देखिये भागलपुर पुलिस का यह अभियान

राष्ट्रव्यापी लॉक डाउन के दौरान विधि व्यवस्था पर पूरा ध्यान देने के अलावा भी पुलिस

जिला प्रशासन का सहयोग कर रही है। पुलिस की तरफ से हर थाना में पहले से ही

सामुदायिक किचन संचालित किया जा रहा है। इसके बीच अब गरीबों के मददगार के तौर

पर इसी पुलिस ने नये प्रयास भी किये हैं। जब लॉक डाउन का फैसला पहली बार अमल में

लाया गया था तो भागलपुर के अनेक इलाकों में लोगों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया था।

उस दौरान पुलिस को अपने विभाग के तेवर के अनुरुप आचरण करना पड़ा था। उस दौरान

खुद एसएसपी भी मैदान में आये थे। जिससे स्थिति काफी हद तक नियंत्रित हुई थी। अब

लगातार लॉक डाउन जारी रहने के बाद इसी पुलिस ने फिर से अपना मानवतावादी चेहरा

प्रस्तुत किया है।

गरीबों के मददगार के तौर पर सूखा अनाज भी वितरण

इलाके के गरीबों की परेशानियों को समझते हुए जिला पुलिस ने सूखा राशन भी देने का

काम प्रारंभ कर दिया है। वरीय पुलिस अधीक्षक ने इस बारे में स्पष्ट कर दिया कि सभी

थानों से प्राप्त सूचना के आधार पर ही जरूरतमंदों की इस तरीके से मदद की जा रही है।

इसका मकसद सिर्फ यही है कि इस राष्ट्रीय ही नहीं वैश्विक संकट की घड़ी में कोई भी

भूखा न रह जाए। पुलिस की योजना के तहत आज भी सैकड़ों लोगों को उनके परिवार के

लिए यह राशन प्रदान किया गया।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat