fbpx Press "Enter" to skip to content

भागलपुर या धनबाद सब जगह एक जैसी वीरानी

रांचीः भागलपुर या धनबाद या फिर कोई और शहर। सब जगह का हाल शाम के अंधेरे में

एक जैसा ही नजर आने लगा है। सूरज डूबने के बाद की वीरानी सभी जगह अब एक जैसी

हो चुकी है। प्रारंभ के कुछ दिनों में अलग अलग इलाके की वजह से यह गतिविधियां थोडी

भिन्न थीं। लेकिन अब देश की कोयला राजधानी धनबाद हो या बिहार का भागलपुर दोनों

ही एक जैसे सन्नाटे को झेल रहे हैं।

वीडियो में देखिये दोनों शहरों का हाल

राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का अब सख्ती से पालन होने की वजह से यह सन्नाटा और भी

परेशान करने लगा है। जिन इलाकों में शाम के वक्त भी काफी भीड़ हुआ करती थी, वे अब

पूरी तरह वीरान है। दरअसल कोरोना की वजह से उठाये गये लॉकडाउन के नियम के बाद

झारखंड में भी कोरोना के प्रवेश की चर्चा ने यहां के लोगों को अतिरिक्त तौर पर सावधान

कर दिया है। सभी जानते हैं कि झारखंड राज्य की अर्थव्यवस्था का अन्यतम मूल आधार

कोयाला का कारोबार ही है। इस कारोबार का सबसे सक्रिय केंद्र धनबाद ही है। जहां की

अधिकांश व्यापारिक गतिविधियों के मूल में भी कोयला का कारोबार ही है। कारोबारी

व्यस्तता वाले इस शहर में बने आलीशान भवन और मॉल के पीछे की पूंजी भी

अधिकांशतः कोयला के कारोबार से ही है। इन्हीं कारणों से धनबाद को कोयला

राजधानी भी कहा जाता है। देश के कोयला व्यापार का इतिहास भी कहता है कि कोयला

खनन के राष्ट्रीयकरण से पहले धनबाद से आसानसोल तक का इलाका ही कोयला संबंधी

गतिविधियों के लिए प्रमुख था। दूसरी तरफ भागलपुर की अर्थव्यवस्था मूल प्राचीन

आधार सिल्क था। समय के साथ वहां की परिस्थितियां और कारोबारी चेहरा भी बदला है।

भागलपुर या धनबाद दोनों तरफ के इलाकों की सीमाएं भी सील

भागलपुर से धनबाद तक के बीच दो राज्यों की सीमा भी अब पूरी तरह सील है। जिस

मुख्य राष्ट्रीय पथ यानी जीटी रोड पर हर रोज हजारों वाहन चला करते थे, वे भी सुनसान

पड़े हैं। ऐसे में भीड़ और हलचल देखने को अभ्यस्त हो चुके लोगों को भी यह सन्नाटा

परेशान करने लगा है। लेकिन वे अच्छी तरह इस बात को भी समझ रहे हैं कि इस सन्नाटे

को झेलना एक राष्ट्रीय जिम्मेदारी है। वरना कोरोना का विस्तार और हुआ तो पूरा देश

दूसरे किस्म के सन्नाटा का झेलने के लिए मजबूर होगा।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat