fbpx Press "Enter" to skip to content

शराब बिक्री के अपने बयान पर कायम हैं विधायक अजीत शर्मा

दीपक नौरंगी

भागलपुरः शराब बिक्री की अनुमति देने की मांग कर भागलपुर के विधायक अजीत शर्मा

ने पूरे प्रदेश में सुस्त पड़ी राजनीति को अचानक गरमा दिया है। खास कर उनके इस

बयान पर सोशल मीडिया में तूफान खड़ा हो गया है। उनके खिलाफ और पक्ष में बयान एवं

तर्क देने की क्रम तेज हो चला है। इस मुद्दे पर राष्ट्रीय खबर ने फिर श्री शर्मा से बात-चीत

की और इस बारे में फिर से उनकी प्रतिक्रिया हासिल की। 

वीडियो में देखिये क्या कहा विधायक अजीत शर्मा ने

इस विवाद और बयानबाजी के मुद्दे पर पूछे जाने पर श्री शर्मा ने कहा कि उन्होंने पहले ही

पूरी बात साफ कर दी थी कि शराब की बिक्री की अनुमति क्यों इस समय दी जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि यह तो सरकारी अधिकारी भी अच्छी तरह समझ रहे हैं कि गरीबों को देने

के लिए उनके पास राशन तेजी से कम हो रहा है। ऐसे में सरकारी कोष भी घटता जा रहा

है। बार बार यह बात समझ में आ रही है कि सरकार अभी की परिस्थिति में आर्थिक संकट

के दौर से गुजर रही है। अब जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने सारी परिस्थितियों को

समझते हुए देश के अन्य राज्यों में शराब बेचने की अनुमति दी है तो बिहार को राजस्व

का नुकसान क्यों उठाना चाहिए। अगर यह बिहार के लिए गलत है तो इस प्रतिबंध को पूरे

देश में एक जैसा लागू कर शराब की बिक्री पर रोक लगानी चाहिए।

अगल यह गलत है तो पूरे देश मेंशराब की बिक्री बंद करे मोदी सरकार

अकेले बिहार राजस्व का यह नुकसान क्यों झेले।  श्री शर्मा ने फिर कहा कि चार वर्षों में

निरंतर शराबबंदी रही है तो पीने वालों की आदत छूट गयी होगी। इसलिए अगर फिर से

शराब बिक्री की अनुमति दी गयी तो सरकार का खाली खजाना तो भरेगा। उन्होंने पहले

भी अन्य राज्यों में इस पर अलग से कोरोना कर लगाने से होने वाली सरकारी आय का

उल्लेख किया था। उन्होंने कहा कि जो लोग निरर्थक विरोध कर रहे हैं उन्हें भी अच्छी तरह

पता है कि वास्तविकता क्या है। शराब कहां से लायी और बेची जा रही है। कौन माफिया

इसमें सक्रिय है। इसलिए सिर्फ और सिर्फ सरकारी राजस्व का नुकसान क्यों हो। पड़ोसी

राज्य बंगाल में भी इस पर अतिरिक्त कर लगाया गया है और वह राज्य शराब बिक्री के

जरिए आय का नया स्रोत तैयार कर चुकी है। इसलिए बिहार को भी इस पर विचार करना

चाहिए क्योंकि यह समय की मांग है।

शराब बिक्री के अलावा भी कारोबार चालू करने की बात कही

भागलपुर विधायक ने कहा कि अभी सिर्फ गरीबों को राशन देने का मसला भर नहीं है। वह

तो बार बार यह दलील दे रहे हैं कि सरकार को अब कारोबार चालू करने पर ध्यान देना

चाहिए। जहां संक्रमण का खतरा है उन कारोबारों को छोड़कर शेष सभी कारोबार को चालू

किया जाए। इससे लोगों के पास भी पैसा आयेगा और सरकार को भी राजस्व की प्राप्ति

होने लगेगी। अनंतकाल तक इस किस्म के लॉक डाउन की स्थिति को जारी नहीं रखा जा

सकता है। अब रोजगार प्रारंभ करने की दिशा में भी काम होना चाहिए


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

4 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat