fbpx Press "Enter" to skip to content

सड़कों को बेहतर करने और पैदल चलने वालों की परेशानियों पर बेवीनार

संवाददाता

रांचीः सड़कों को बेहतर करने आज रामगढ़ पेडेस्ट्रियन फोरम ने ‘समनेट’ के सहयोग से

एक वेबचर्चा का आयोजन किया गया। जिसमें शहरी सड़कों पर पैदल चलने वालों की

समस्याओं, उनके अधिकारों, और भारतीय रोड कांग्रेस एवं स्मार्ट सिटी के दिशा-निर्देशों

एवं केंद्र सरकार द्वारा हाल में ज़ारी की गई एडवाइजरी के संबंध में चर्चा हुई। चर्चा का

प्रारंभ करते हुए बसंत हेतमसरिया ने बताया कि भारत में सड़क दुर्घटना में मरने वालों की

संख्या विश्व के अन्य देशों की तुलना में बहुत ज्यादा है। कोविड-19 के कारण बनी

वर्तमान परिस्थितियों में सड़क पर चलने की जरूरत बढ़ गई है। तब पैदल चलने के लिए

सड़कें कैसे सुरक्षित हों इस पर चर्चा की एवं इसके लिए झारखंड में सरकार के द्वारा नीति

निर्धारण की जरूरत बताई। बसंत हेतमसरिया ने कहा कि इसके अलावा स्वास्थ्य,

पर्यावरण एवं विश्व के अग्रणी देशों में शामिल होने के भारत के सपने के मद्देनज़र सड़कों

को पैदल चलने वालों के ज्यादा अनुकूल होना चाहिए पर सरकार की नीतियों का पैदल

चलने वालों के पक्ष में होने के बावजूद सड़कों पर हालात का बदतर होना चिंता का विषय

है।

आज रामगढ़ पेडेस्ट्रियन फोरम ने सड़कों की हालात पर चिंता जताई

सरकार को इस मुद्दे पर संवेदनशील बनाने की जरूरत है। उन्होंने रामगढ़ के नेहरू रोड को

एक मॉडल सड़क के रूप में विकसित करनेे के लिए समनेट के सहयोग से बने वैकल्पिक

डिजाइन को भी प्रस्तुत किया जिसमें पैदल यात्रियों की सुरक्षा के अलावा उनके लिए अन्य

कई सुविधाओं का भी प्रावधान किया गया है। इस डिजाइन की सभी ने बहुत प्रशंसा की

और एक स्वर से इसे धरातल पर उतारने की जरूरत से सहमति जताई। छावनी परिषद्

रामगढ़ के उपाध्यक्ष अनमोल सिंह एवं पूर्व उपाध्यक्ष संजीत सिंह उर्फ छोटू सिंह ने भी

इसकी प्रशंसा करते हुए इसे साकार करने में सहयोग का भरोसा दिया । चर्चा में शामिल

लोगों ने पदयात्रियों की समस्याओं को रखा और नेहरू रोड को वैकल्पिक डिजाइन के

अनुसार बनाने की कोशिश तेज करने का समर्थन किया। कार्यक्रम में राजेन्द्र रवि और

निशान्त (दिल्ली), महेन्द्र यादव एवं संजय आनन्द (बिहार), जयन्ती और वर्तिका

(कोलकाता), हनुमान प्रसाद (सूरत), प्रभाकर जी (राँची), प्रीति रंजन दास (बोकारो) राम

दरश राय (जमशेदपुर), बिन्नी और विश्वनाथ आजाद (हजारीबाग) एवं रामगढ़ से श्याम

सुन्दर परसरामपुरिया, डॉ लिओ सिंह, आभा जी, डॉ बी एन ओहदार, किरण शंकर दत्त,

अरुण गनौरी, राजू विश्वकर्मा, डॉ शारदा प्रसाद, फादर करमा कच्छप, राकेश जैन, सहित

कई अन्य लोग शामिल हुए। इस विषय पर आगे की चर्चा के लिए दो सप्ताह के अंतराल

पर फिर वेबचर्चा आयोजित की जाएगी ।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

Leave a Reply