Press "Enter" to skip to content

बीसीसीएल के जीनागोरा में भू धंसान एटी देव प्रभा आउटसोर्सिगं का बंद वर्कशॉप धराशायी







  • कार्यालय के नीचे चल रहे अवैध उत्खनन में कई के दबे होने की आशंका
    कोयले से भरी दर्जनों बोरे, कोयला काटने के उपकरण, चप्पल, एक गैलेन पानी, एक गमछा बरामद

अलकडीहा(झरिया):-बीसीसीएल लोदना क्षेत्र के जीनागोरा एटी देवप्रभा आउटसोर्सिंग परियोजना के बंद वर्कशॉप की जमीन में

सोमवार की देर शाम भू धंसान की हुई घटना से एक ओर जहां वर्कशॉप ऑफिस धराशायी हो गयी

तो दूसरी तरफ वर्कशॉप के निचे हो रही अवैध खनन की मुहानो में धंसान के

मलबे में कई चोरो की दबने की आशंका व्यक्त की जा रही है।

हालांकि घटना के बाद पहुंची अलकडीहा, तिसरा पुलिस और उसके

अधिकारियो ने घटना में किसी के दबे होने की संभावना को खरिज कर दिया है।

जबकि घटनास्थल पर बड़ी संख्या में जुटी भीड़ ने पुलिस को

मुहानो में कोयला चोरो के दबने की बात कही है।

घटनास्थल के समीप जमीन की धंसने का सिलसिला जारी है।

जिसके कारण वर्कशॉप में खड़ी खराब शावेल मशीन समेत दो डम्फर जमींदोज हो गयी।

पुलिस निरीक्षक अखिलेश कुमार ने जीनागोरा प्रबंधन को तत्काल

भूधंसान वाली क्षेत्रो व अवैध मुहानो को डोजरिंग कर समतलीकरण करने का निर्देश दिया है।

बताते है कि जीनागोरा पहाड़ीगोड़ा मुख्यमार्ग के बगल में आउटसोर्सिंग परियोजना के बंद पैच के दर्जन भर मुहानो में

पुलिस और सीआईएसएफ के नाक के निचे बड़े पैमाने में चोरो के

संगठित दल द्वारा रोजाना पच्चासों टन कोयला अवैध खनन किया जाता है।

बीसीसीएल वर्कशॉप के निचे अवैध खनन का धंधा बड़े पैमाने पर किये जाने के कारन जमीन खोखला हो गया है।

फलत: छत पर दबाव पड़ने के चलते सोमवार को अचानक जमीन बैठने लगी।

जिसकी चपेट में आने से वर्कशॉप धराशायी हो गया तथा आधी मशीन जमीन में धंस गयी।

जमीन के बैठने की आवाज सुनकर अवैध खनन के कोयले को बोरे में भराई कर रहे सारे लोग भाग खड़े हुए।

जबकि लोगों का मानना है कि लगभग आधा दर्जन की संख्या कोयला खनन कर रहे चोर की मलबे में दब गये होगें।

घटना के बाद बड़ी संख्या लोगो का घटनास्थल पर जमावड़ा लग गया

और भीड़ में कोयला चोरो के दबने की चर्चा जंगल में लगी आग की तरह फैल गयी।

जिससे पुलिस की हाथ पाँव फूलने लगे। घटनास्थल पर कोयले से भरी दर्जनों बोरे,

कोयला काटने के उपकरण, चप्पल, एक गैलेन पानी, एक गमछा और टोकरी पड़ा है।

जिसे पुलिस ने जब्त किया है। सूचना पाकर डीएसपी प्रमोद केशरी, जोरापोखर अंचल के इन्स्पेक्टर ए कुमार,

जीनागोरा पीओ एमएच कुरैशी, सुरक्षा प्रबंधक पी आलम ने घटनास्थल का निरिक्षण किया है।

डीएसपी प्रमोद केशरी का बयान

प्रबंधन की लापरवाही से अवैध खनन की घटना होती है।

प्रबंधन की जवाबदेही है कि वे अपने स्तर से क्षेत्र में हो रही अवैध खनन स्थल का निरिक्षण कर डोजरिंग कराय।

डोजरिंग प्रक्रिया में प्रबंधन को परेशानी होती है तो वे सीआईएसएफ और पुलिस को सुरक्षा के लिए ले सकती है।

पुलिस के ऊपर कई जवाबदेही है फिर भी अपना काम करते रहती है।

समय समय पर छापेमारी की जाती है।

वे कई बार स्वयं इन क्षेत्रो में छापेमारी अभियान चलाया है।

आज की घटना में किसी के दबने की आशंका नहीं है। फिर भी तहकीकात की जा रही है



Spread the love
  • 14
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •   
  •  
  •  
    14
    Shares
More from धनबादMore posts in धनबाद »

Be First to Comment

Leave a Reply

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com