fbpx Press "Enter" to skip to content

बरलंगा में तीन एकड़ अफीम की खेती नष्ट किया पुलिस ने

रामगढ़ः बरलंगा थाना क्षेत्र अंतर्गत औराडीह नीम टोला के पहाड़ी

नाला क्षेत्र में अफीम की खेती की जा रही थी। इसकी गुप्त सुचना

पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार को मिली । सूचना पाते ही पुलिस

अधीक्षक द्वारा उपाधीक्षक मुख्यालय प्रकाश सोय के नेतृत्व में एक

टीम गठन किया गया । वहीं उनके निर्देशानुसार सूचना का सत्यापन

एवं आवश्यक कारवाई हेतु आज अहले सुबह 5 बजे टीम के साथ

ओरीडीह के नीम टोला पहाड़ी नाला क्षेत्र में सत्यापन किया गया तो

वहां करीब 3 एकड़ जमीन में अवैध रुप से अवैध अफीम की खेती की

जा रही थी । इसके बाद अगल बगल के ग्रामीणो के द्वारा विस्तृत

जानकारी ली गई कि किनके द्वारा ये अवैध अफीम की खेती की जा

रही है। परंतु खेती करने वाले का पता नहीं चल पाया । तत्पश्चात इस

अफीम की खेती को नष्ट कर दिया गया । वहीं बरलंगा थाना में कांड

दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है । इस अवैध अफीम का बाजार

मूल्य लगभग 20 से 25 लाख के करीब है । छापामार दल में पुलिस

उपाधीक्षक मुख्यालय प्रकाश सोय, सीओ गोला गौतम दुबे, अंचल

निरीक्षक गोला संजय गुप्ता, रजरप्पा थाना प्रभारी विनोद कुमार मुर्मु

बरलंगा थाना प्रभारी संजय नायक, गोला थाना रमेश मुर्मु , फोरेस्टर

गोला थाना क्षेत्र सुल्तान अंसारी व उनके टीम, अमर शुक्ला, सुभाष

कांत अकेला, जयप्रकाश शर्मा, मनीदीप , अशोक गुप्ता, सफिउल्ला

अंसारी सहित अन्य सशस्त्र बल शामिल थे।

बरलंगा के अलावा भी अनेक इलाकों से शिकायत

झारखंड पुलिस को लगातार अफीम की खेती के बारे में शिकायतें मिल

रही हैं। दुर्गम और सुनसान जंगलों के बीच इस किस्म की खेती का

आसानी से पता भी नहीं चल पा रहा है। अजीब स्थिति यह भी है कि

चंद लोगों के पकड़े जाने के बाद भी झारखंड में अफीम की खेती का

असली सूत्रधार कौन है, यह स्पष्ट नहीं है। पता है कि नशे के इस

कारोबार का बड़ा मुनाफा है लेकिन खेती करने वालों को इस मुनाफे का

कोई लाभ नहीं मिल रहा है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

Open chat
Powered by