fbpx Press "Enter" to skip to content

बरियापुर थाना पर हमला जबावी कार्रवाई में हमलावर होमगार्ड मारा गया

  • अपने सर्विस राइफल से ही थाना पर गोली दाग रहा था

  • पुलिस को हुआ था उग्रवादियों के हमले का अंदेशा

  • घेराबंदी कर आत्मसमर्पण की चेतावनी भी दी गयी

  • पत्नी और बच्चा आज सुबह ही मिलकर लौटे थे

दीपक नौरंगी

भागलपुरः बरियापुर थाना पर हमले की सूचना से एकबारगी सनसनी फैल गयी थी। मुंगेर

जिला के इस थाना पर अचानक हुए हमले की सूचना जब मुख्यालय पहुंची तो तैयारी हुई।

वायरलैश पर मिली इस सूचना के आधार पर इसे प्रारंभ में उग्रवादी हमला भी समझा गया

था। थाना से मिली सूचना के मुताबिक थाना के अंदर से ही कुछ लोग थाना के लोगों और

स्टाफ क्वार्टर पर निशाना साधकर फायरिंग कर रहे है। इस सूचना पर आनन फानन में

अतिरिक्त पुलिस बल को घटनास्थल पर भेजा गया। थाना की पूरी तरह घेराबंदी कर लिये

जाने के दौरान भी रूक रूककर फायरिंग हो रही थी। जब स्थिति का मुआयना किया गया

तो पता चला कि थाना के शौचालय से ही गोलियां दागी जा रही है। आम जानमाल का

नुकसान कम करने के लिए गोलियों के शिकार होने से बचने के लिए लोगों को वहां से

हटाया गया था। पूरी तरह घेराबंदी किये जाने के दौरान यह स्पष्ट हो गया था कि

शौचालय सह स्नानागार से ही गोलियां दागी जा रही है। उसकी भी पूरी सतर्कता के साथ

घेराबंदी की गयी। घेराबंदी पूरा कर लिये जाने के बाद गोली चलाने वाले को आत्मसमर्पण

के लिए चेतावनी दी गयी।

बरियारपुर थाना पुलिस ने उच्चाधिकारियों को सूचना दी थी

बरियापुर थाना के उस इलाके में चेतावनी दिये जाने के बाद फिर से गोलियां चली तो

पुलिस ने भी जबाव में गोलियां चलायी। उसके बाद गोलियां चलाने वाले वहां की आड़

लेकर फिर से गोली दागने लगे। इस पर पुलिस ने भी निशाना साधकर गोलियां चलायी।

जिससे हथियार लेकर गोली दागने वाला ढेर हो गया। उसके मर जाने के बाद उसकी

शिनाख्त की गयी। यह पाया गया कि पुलिस पर गोलियां चलाने वाले होमगार्ड का जवान

मोहम्मद जाहिद है। वह मूल रुप से यहां के बाकरपुर का रहने वाला था। उसने अपनी

सर्विस राइफल से ही करीब दस चक्र गोलियां दागी थी। हमलावर के मारे जाने के बाद

तलाशी में चालीस राउंड गोली और राइफल को भी जब्त किया गया।

घटना के बाद थाना के लोगों ने बताया कि कुछ ही दिन पहले कमान बदली के तहत यह

जवान इस थाना में पदस्थापित हुआ था। आज सुबह ही उसकी पत्नी और बेटा भी उससे

मिलने आये थे। इसलिए वह किसी मानसिक तनाव में था अथवा उसका कोई ईलाज भी

चल रहा था, उसकी भी जांच की जा रही है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from रक्षाMore posts in रक्षा »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: