fbpx Press "Enter" to skip to content

बड़ा तालाब में दो दिनों में दोगुनी हुई जलकुंभी

  • चिड़ियों के लिए आरामगाह बना है

  • लॉकडाउन के बाद सफाई व्यवस्था हुई ठप

  • प्रदूषण कम होने से दुर्गंध भी कम हो गयी

  • 21 दिनों में क्या हाल होगा समझना आसान

संवाददाता

रांचीः बड़ा तालाब में अभी का नजारा कुछ और ही है। इस जगह को इस शांत माहौल में

देखने पर एक साथ दो हालात नजर आते हैं। यानी हम मान सकते हैं कि रांची में

लॉकडाउन का दोतरफा असर शहर के मध्य में स्थित बड़ा तालाब में देखने को मिल रहा

है। इस तालाब में सामान्य दिनों में हर तरफ हलचल मची रहती है। अब वीरान होने की

वजह से खास तौर पर बगुला जैसे नभचर यहां का असली आनंद उठा रहे हैं। उनके अनेक

झूंड हर वक्त यहां उड़ते और मंडराते हुए देखे जा सकते हैं। इस सुखद स्थिति के बीच

तालाब में तेजी से जलकुंभी का बढ़ते जाना निश्चित तौर पर चिंता का विषय है। यह चिंता

जलगत प्रदूषण की कम और जल स्तर के तेजी से कम होने की अधिक है। अब तापमान

बढ़ने से वैसे भी पानी के भाप बनने की प्रक्रिया तेज हो चली है। इसके बीच जलकुंभी के

बेरोकटोक बढ़ने से भी पानी सोखा जा रहा है। जिस गति से यह जलकुंभी यहां बढ़ रही है,

उससे ऐसा लगता है कि 21 दिनों का लॉकडाउन समाप्त होने तक यह बीच में स्थित

विवेकानंद की प्रतिमा के चारों तरफ बने घेरे के ऊपर भी नजर आने लगेगी।

रांची में बड़ा तालाब के चारों तरफ हो रहे सौंदर्यीकरण का काम भी काफी दिनों से बंद और

अधूरा ही पड़ा है। इसकी वजह से भी तालाब का प्रदूषण स्तर पहले से ही बढ़ा हुआ था। अब

लॉकडाउन की अवधि में वहां नगर निगम के सफाई कर्मचारी भी नहीं आ रहे हैं। इससे

जलकुंभी का विस्तार बिना किसी रोक टोक के होता जा रहा है।

बड़ा तालाब में यह स्थिति बताती है कि क्या करना है

इस प्रतिकूल परिस्थिति के बाद भी यह स्पष्ट हो गया है कि भीड़, गंदगी और प्रदूषण को

रोककर भी शहर के ठीक बीच में अवस्थित इस तालाब का हाल काफी हद तक सुधारा जा

सकता है। वैसे इस बार में पहले ही विशेषज्ञ यह राय जाहिर कर चुके हैं कि अब बिना इस

तालाब में लंबे समय तक ड्रेजिंग किये इसकी हालत को पूर्ववत नहीं किया जा सकता।

इसकी खास वजह इतने वर्षों तक वहां गंदगी जमने की वजह से तालाब के निचले सतह

पर काफी मोटा सिल्ट का जम जाना है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from रांचीMore posts in रांची »

2 Comments

  1. […] बड़ा तालाब में दो दिनों में दोगुनी हुई… चिड़ियों के लिए आरामगाह बना है लॉकडाउन के बाद सफाई व्यवस्था हुई ठप प्रदूषण कम होने से … […]

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat