fbpx Press "Enter" to skip to content

आतंकवादी समूहों को बांग्लादेश कभी बर्दाश्त नहीं करेगा : शेख हसीना




  • भारत के साथ दोस्ती है और दोस्ती हमेशा रहेगी

  • पीएम मोदी-शेख हसीना ने किया उद्घाटन

  • चिलाहाटी– हल्दीबाड़ी रेल लाइन शुरु

  • 55 वर्षों के बाद चालू हुई यह सेवा

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: आतंकवादी समूहों के बारे में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने आज कहा

कि किसी भी भारत-विरोधी आतंकवादी संगठन को बांग्लादेश में रहने की अनुमति नहीं

दी जाएगी। उसने कहा कि उन्होंने इसके खिलाफ जांच शुरू कर दी है। बांग्लादेश में उत्तर

पूर्व आतंकवादी समूहों का घर बना हुआ है। पूर्वोत्तर भारत में असम, मणिपुर, नागालैंड के

कई उग्रवादी संगठन बांग्लादेश में घर बनाकर भारत विरोधी अभियान चला रहे थे। इसे

नकारते हुए बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा कि हमारी भारत के साथ दोस्ती

है और दोस्ती हमेशा रहेगी। गुवाहाटी में आज गृह मंत्रालय की ओर से एक बयान में, इस

बारे में कहा गया कि भारत और बांग्लादेश के बीच आज डिजिटल शिखर सम्मेलन

आयोजित किया गया है।इस सम्मेलन में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी डिजिटल शिखर सम्मेलन में शामिल हुए। इस सम्मेलन

के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच 55 सालों बाद रेल लिंक का उद्घाटन हुआ। इस

दौरान दोनों देशों के प्रधानमंत्री ने अपना संबोधन दिया। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने

कहा कि बांग्लादेश हमारी ‘नेबरहुड फर्स्ट’ नीति का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है, वहीं शेख

हसीना ने भारत के सहयोग की सराहना की।भारत-बांग्लादेश के वर्चुअल समिट के दौरान

पीएम नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने संयुक्त रूप से भारत और

बांग्लादेश के बीच चिलाहाटी-हल्दीबाड़ी रेल लिंक का उद्घाटन किया। बांग्लादेश और

भारत  के बीच 55 सालों बाद कोई रेल लाइन का उद्घाटन हुआ है। भारत और इस देश के

बीच1965 से पहले जारी छह रेल संपर्क को पुनर्जीवित करने और संचालन के लिए दोनों

पक्षों ने हामी भरी है। हल्दीबाड़ी-चिलाहाटी रेल लिंक के उद्घाटन के साथ, छह में से पांच

रेल लिंक वर्तमान में चालू हैं।

जल पथ के साथ साथ अब रेल पथ के विकास पर काम

पश्चिम बंगाल को बांग्लादेश से जोड़ने वाले अन्य चार परिचालन रेल लिंक पेट्रापोल

(भारत) – बेनापोल (बांग्लादेश), गेदे (भारत – दर्शन) हैं बांग्लादेश), सिंघाबाद (भारत)

-रोहनपुर (बांग्लादेश) और राधिकापुर (भारत) -बीरोल (बांग्लादेश)।भारत-बांग्लादेश

वर्चुअल समिट के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश के पीएम शेख हसीना ने शेख

मुजफ्फर सलमान पर एक स्मारक डाक टिकट भी जारी किया।डिजिटल शिखर सम्मेलन

को भारत और बांग्लादेश के प्रधानमंत्रियों ने संबोधित किया। इस दौरान पीएम मोदी ने

कहा कि बांग्लादेश हमारी ‘नेबरहुड फर्स्ट’ नीति का एक महत्वपूर्ण स्तंभ है। उन्होंने कहा

कि बांग्लादेश के साथ संबंध मजबूत करना पहले दिन से मेरे लिए प्राथमिकता है, वहीं

बांग्लादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना ने पीएम मोदी के साथ आभासी शिखर सम्मेलन के

दौरान कहा कि आपकी(भारत) सरकार ने जिस तरह से कोविड -19 का मुकाबला किया है,

उसके लिए मुझे आपकी सराहना करनी चाहिए।इस बीच, भारत-बांग्लादेश वर्चुअल समिट

के बारे में, आज गुवाहाटी में गृह मंत्रालय की ओर से एक बयान में कहा गया कि बांग्लादेश

का आतंकवादी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश अपनी आतंकवादी गतिविधियों

को पश्चिम बंगाल , असम, मणिपुर, पूर्वोत्तर में नागालैंड अंजाम दे रहा है।इस अवसर पर

बांग्लादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना ने इस जानकारी के बारे में आज कहा कि, “यदि

बांग्लादेश में उत्तर पूर्व आतंकवादी समूहों का घर है” तो बांग्लादेश इसे कभी बर्दाश्त नहीं

करेगा। इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में भारत और बांग्लादेश का

अच्छा सहयोग रहा है, वैक्सीन के काम में भी दोनों का सहयोग बना रहेगा। पीएम मोदी

बोले कि दोनों देश कनेक्टविटी पर जोर दे रहे हैं, जो हमारी दोस्ती को दिखाता है।

आतंकवादी समूहों के अलावा कोरोना का भी उल्लेख हुआ

शेख हसीना ने कहा कि कोरोना काल में दोनों देश और करीब आए हैं, दोनों देशों के लोगों

के बीच में भी आपसी संबंध मजबूत हुआ है. दोनों देशों ने इस साल में कनेक्टविटी के कई

नए काम शुरू किए हैं।इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि यह मेरे लिए गर्व की बात है कि

मुझे महात्मा गांधी और बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की डिजिटल प्रदर्शनी जारी करनी

है। वे हमारे युवाओं को प्रेरित करते रहेंगे।

शेख हसीना ने याद किया 1971 का युद्ध

बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना ने अपने संबोधन में कहा कि भारत और बांग्लादेश दोनों

ही विजय दिवस मना रहे हैं। शेख हसीना ने इस दौरान 1971 की जंग में शहीद हुए

भारतीय जवानों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि मैं उन 30 लाख शहीदों को गहरी

श्रद्धांजलि अर्पित करती हूं जिन्होंने अपना जीवन लगा दिया। मैं 1971 की लड़ाई में शहीद

हुए भारतीय सशस्त्र बलों के सदस्यों को श्रद्धांजलि देती हूं। मैं भारत सरकार और लोगों का

आभार व्यक्त करती हूं, जिन्होंने हमारी मुक्ति के लिए पूरे दिल से समर्थन दिया।

शेख हसीना ने कहा कि बांग्लादेश एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में 50 साल मनाने के कगार पर

है। 26 मार्च 2021 को आपकी (पीएम मोदी) ढाका यात्रा बांग्लादेश मुक्ति युद्ध 1971 के

हमारे संयुक्त स्मरणोत्सव की शानदार महिमा होगी। बुधवार को बांग्लादेश के

पाकिस्तान से अलग होने के 49 वर्ष पूरे होने के अवसर पर प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा

कि बांग्लादेश में सभी धर्म और जाति के लोगों को समान अधिकार प्राप्त हैं।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from कूटनीतिMore posts in कूटनीति »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from देशMore posts in देश »
More from बांग्लादेशMore posts in बांग्लादेश »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

2 Comments

... ... ...
%d bloggers like this: