fbpx Press "Enter" to skip to content

बांग्लादेश में कोरोना का प्रकोप कम होने के बाद रेल सेवा बहाल

  • सभी सीटों के लिए अब टिकट बेचे जाएंगे

  • 25 मार्च से इस सेवा पर पूर्ण रोक लगी थी

  • आधे टिकट स्टेशन की टिकट खिड़की से बिकेंगे

  • छह महीनों तक बंद रहने के बाद रेल सेवा सामान्य हुई

अमीनूल हक

ढाकाः बांग्लादेश में कोरोना का प्रकोप तेजी से कम हो रहा है। इसी वजह से छह महीने

तक बंद रहने के बाद अब रेल परिवहन को पूरी तरह खोल दिया गया है। वैसे आज भी

पहले के नियमों की वजह से ट्रेनों में सीटें खाली थीं। लेकिन आज से सभी सीटों पर यात्री

लेने का प्रावधान लागू कर दिया गया है।

वीडियो में देखें बांग्लादेश की रेल सेवा का हाल

इसके पूर्व ही जिनलोगों को टिकट बेचे जा चुके थे, उसी वजह से आज जो ट्रेनें खुली, उनमें

पचास प्रतिशत ही यात्री थे। पूर्व के प्रावधान में बीच की एक सीट को खाली रखने का

निर्देश जारी किया गया था। इस निर्देश को आज ही हटाते हुए सभी सीटों पर यात्रियों को

बैठने की अनुमति दी गयी है।

बांग्लादेश में कोरोना के दौरान ही कई रेल नियम बदले गये

रेल सेवा बहाल होने के दौरान आज सुबह खुलने वाली कई ट्रेनों में यात्री बहुत कम थे

क्योंकि सभी सीटों को भरने का फैसला देने से जारी किया गया। वैसे रेलवे ने अपने

नियमों में बदलाव कर शत प्रतिशत टिकटों की बिक्री चालू करने के बाद भी उनमें से 50

प्रतिशत टिकट ऑनलाइन बेचने तथा शेष 50 प्रतिशत स्टेशन के टिकट काउंटर पर बेचने

का फैसला लागू किया है। वैसे भी बांग्लादेश में पहले से ही बिना टिकट अथवा दूसरे की

टिकट पर रेल यात्रा को अब दंडनीय अपराध बना दिया गया है। पिछले 31 मई से जो चंद

ट्रेनें संचालित की जा रही थी, उनमें भी सिर्फ पचास प्रतिशत यात्री ही सफर कर पा रहे थे।

5 सितंबर से रेलवे पर कोरोना निषेधाज्ञा को शिथिल करने का काम प्रारंभ किया गया है।

12 सितंबर से रेलवे स्टेशनों के टिकट काउंटरों से भी टिकटों की बिक्री होने लगी थी। याद

रहे कि गत 25 मार्च से कोरोना विस्फोट की वजह से लॉक डाउन लगाने के साथ साथ पूरी

रेल सेवा ही बंद कर दी गयी थी।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बांग्लादेशMore posts in बांग्लादेश »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!