fbpx Press "Enter" to skip to content

बांग्लादेश भारत संपर्क के नये जलपथ का उदघाटन मोदी करेंगे




  • परिवहन लागत कम होने का फायदा भारत को

  • उत्तर पूर्वी भारत के राज्यो को सर्वाधिक लाभ

  • नौ पथ का उदघाटन ऑनलाइन ही किया जाएगा

अमीनूल हक

ढाकाः बांग्लादेश भारत के नौ संपर्क पथ में एक और सफलता शीघ्र ही जुडऩे जा रही है।

युद्ध स्तर पर इसकी तैयारियों को अंतिम रुप प्रदान किया जा रहा है। इस रुट पर जो काम

अधूरे रह गये हैं, उन्हें भी युद्ध स्तर पर निपटाया जा रहा है। ताकि भारतीय प्रधानमंत्री

नरेंद्र मोदी द्वारा इस रुट के ऑनलाइन उदघाटन से पहले यह तैयार हो जाए।

वीडियो में जान लीजिए पूरा मामला

बताते चलें कि बांग्लादेश भारत के बीच इस श्रेणी के दस जलपथ चालू हैं। इसमें से

सोनामुडा रुट का ट्रायल रन पहले ही हो चुका है। इस बार बांग्लादेश के जकीगंज और

असम के करीमगंज के बीच इस सेवा को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऑनलाइन चालू

करने वाले है। इस बारे में बांग्लादेश भारत नौ प्रोटोकॉल रुट के निदेशक रफीकुल इस्लाम

ने आज बताया कि इसे पूरी तरह नया पथ कहना उचित नहीं होगा क्योंकि यह जल मार्ग

पहले से ही चालू है। लेकिन उसे और बेहतर बनाया जा रहा है। इसके लिए पहले से ही

ड्रेजिंग का काम प्रारंभ किया गया था, जो अब भी जारी है। उन्होंने कहा कि इस रूट के

औपचारिक तौर पर चालू होने के पहले ही इस मार्ग से सामान ले जाने का कार्यादेश भी

प्राप्त होने लगा है।

बांग्लादेश भारत के इस नौ पथ से लागत बहुत कम होगी

दरअसल इस बांग्लादेश भारत के इस नौ पथ के जरिए कोलकाता अथवा अन्य भारतीय

बंदरगाहों से आने वाला माल बांग्लादेश के बंदरगाह से होता हुआ उत्तर पूर्वी भारत के

राज्यों तक पहुंचेगा। इसका सबसे अधिक फायदा यह होगा कि इससे परिवहन की लागत

बहुत कम हो जाएगी। साथ ही वर्तमान में सड़क परिवहन पर माल ढुलाई का जो दबाव है,

वह काफी कम होगा। इसके पहले भी सोनामुड़ा रूट का परीक्षण सफलतापूर्वक किया जा

चुका है।

इस बांग्लादेश भारत कनेक्टिविटी नेटवर्क के अध्यक्ष और बांग्लादेश तकनीकी

विश्वविद्यालय के प्रोफसर डॉ हबीबुर रहमान ने कहा कि इसके कई फायदे हैं और खास

तौर पर बांग्लादेश के रास्ते से भारतीय विक्रेताओं का माल भी उत्तर पूर्वी भारत तक कम

लागत खर्च में पहुंच जाएगी। इस बारे में शोध कर्ता चैती रानी विश्वास ने कहा कि यह

अपने आप में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है और उसका लाभ दोनों ही देशों को तथा खास

तौर पर पूर्वोत्तर भारत के व्यापारियों को मिलने जा रहा है।


 



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from असमMore posts in असम »
More from उत्तर पूर्वMore posts in उत्तर पूर्व »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: