fbpx Press "Enter" to skip to content

बंधु पर निष्कासन की कार्रवाई के बाद आगे क्या

बंधु तिर्की को झारखंड विकास मोर्चा से निष्कासित कर दिया गया है।

आरोप है कि उन्होंने पिछले विधानसभा चुनाव में हटिया क्षेत्र में पार्टी

प्रत्याशी के खिलाफ कांग्रेस प्रत्याशी के लिए काम किया था। इस बारे

में उन्हें स्पष्टीकरण जारी किया गया था। इसका उत्तर नहीं देने की

वजह से उनके खिलाफ कार्रवाई की गयी है। सरसरी तौर पर यह

झारखंड के प्रथम मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी द्वारा भाजपा की तरफ

कदम बढ़ान के फैसले के तौर पर देखा जा रहा है। लेकिन खुद श्री

मरांडी एक नहीं कई बार यह स्पष्ट कर चुके हैं कि वह भाजपा में वापस

नहीं जा रहे हैं। श्री मरांडी ने यह बात पिछले चार वर्षों में करीब चालीस

बार दोहरायी है। अब तक सिर्फ यह चर्चा ही फैलायी जाती है कि श्री

मरांडी ने भाजपा में जाने के लिए किसी खास नेता से भेंट की है।

लेकिन इस चर्चा का कोई औपचारिक सूत्र कभी नहीं होता। इसलिए

अब बंधु तिर्की के निष्कासन के बाद भी यह नहीं माना जा सकता है

कि यह मांडर के विधायक के खिलाफ की गयी कार्रवाई है। इस फैसले

के दो पहलुओं पर गौर करें तो श्री मरांडी ने अपनी तरफ से बंधु तिर्की

की विधानसभा की सदस्यता कायम रखते हुए फैसला करने की परोक्ष

छूट प्रदान कर दी है। यह स्पष्ट है कि श्री तिर्की पहले ही स्पष्ट कर

चुके हैं कि उनके लिए भाजपा के फोल्ड में जाना कतई संभव नहीं है।

लगभग यही बात पोड़ेयाहाट विधायक प्रदीप यादव भी बोल चुके हैं।

दोनों का मानना है कि उन्होंने अपने अपने क्षेत्र में भाजपा विरोधी मतों

से जीत दर्ज की है। इसलिए अगर भाजपा में वह चले जाते हैं तो

यह जनादेश का अपमान करना होगा।

बंधु तिर्की के तेवर स्पष्ट गेंद बाबूलाल के पाले में

साथ ही प्रदीप यादव खुले तौर पर बोल चुके हैं कि जिन मुद्दों पर इतनी

लंबी लड़ाई लड़ी है और परेशानी झेली है। उसके बाद भाजपा में जाने

का कोई औचित्य उनके पास नहीं बचा है। यानी जिन तीन लोगों के

ईर्दगिर्द यह कहानी घूम रही है, उस कहानी के तीनों जीवंत पात्र अपने

जुबान से भाजपा में नहीं जाने की बात कह चुके हैं। इससे जो सीधा

सवाल पैदा होता है कि फिर भाजपा में श्री मरांडी के शामिल होने की

चर्चा को कौन हवा दे रहा है। झारखंड की जनता को अब गंभीरतापूर्वक

इस बात को समझने की जरूरत है। सीधी बात है कि अगर वाकई

बाबूलाल मरांडी भाजपा में शामिल होने वाले हैं तो वह गलतबयानी

कर रहे हैं। लेकिन पूर्व में कई अवसरों पर हर बार उनकी बात ही सही

साबित हुई है। इसलिए बार बार श्री मरांडी को ही निशाने पर लेते रहने

का कोई औचित्य नहीं है। फिर बचते हैं वे अदृश्य चेहरे, जो बिना

सामने आये इस बात को बार बार प्रचारित कर रहे हैं कि श्री मरांडी

भाजपा में शामिल होने वाले हैं। ऐसे चेहरों की पहचान और उन्हें दंडित

करने की सख्त जरूरत है। पिछले कई वर्षों से हर बार चुनाव के वक्त

इस चर्चा को हवा दी जाती है। लेकिन कौन इसे फैला रहा है, यह तथ्य

पर्दे के पीछे छिपा रहता है। इसलिए अब पर्दे के पीछे से यह सूचना

मीडिया के माध्यम से जनता तक पहुंचा रहे लोगों को पहचानने की

कोशिश कीजिए। इन चेहरों को पहचानना कोई कठिन बात नहीं है।

सोशल मीडिया के इस दौर में थोड़ी सी मेहनत से यह देखा और समझा

जा सकता है कि इन बातों को फैलाने में किन लोगों की भूमिका है।

सरकार की सेहत पर भी असर डाल रहे हैं बंधु तिर्की

जब इस बात को हर कोई अपनी अपनी कसौटी पर परखेगा तो वह यह

भी अच्छी तरह समझ जाएगा कि कौन सा चेहरा किसके साथ जुड़ा

हुआ है। रही बात बंधु की तो उन्होंने खुद भी इस फैसले के बाद भी श्री

मरांडी का आभार व्यक्त किया है। एक शालीन तरीके से अपनी बात

रखने और पार्टी के वरिष्ठ नेता का सम्मान करते हुए उन्होंने स्पष्ट

किया है कि अगर वाकई श्री मरांडी भाजपा में जा रहे हैं तो उनका साथ

यही तक का है। जाहिर है कि बंधु खुद भी यह कतई नहीं चाहते कि श्री

मरांडी भाजपा में शामिल हों लेकिन लगातार हो रहे प्रचार की वजह से

वह भी यह समझ नहीं पा रहे हैं कि जो बात श्री मरांडी बोल रहे हैं वह

सच है अथवा मीडिया में जिन बातों की बार बार चर्चा हो रही है, वह

सच है। अब इस राज को भी अच्छी तरह ठोंक बजाकर समझ लेना

चाहिए कि खुद श्री मरांडी के ईर्दगिर्द भी अनेक ऐसे चेहरे हैं जो यह

चाहते हैं कि श्री मरांडी वाकई भाजपा में शामिल हो जाएं। लेकिन वे

खुले तौर पर इसका एलान नहीं करते पर अंदर ही अंदर सूत्रों के

माध्यम से ऐसी सूचनाओं को हवा देते रहते हैं। बंधु तिर्की एक कद्दावर

और लड़ाकू नेता है। इसलिए उनके लिए भी बेहतर होगा कि धैर्य के

साथ भावी घटनाक्रमों को देख समझकर आगे का फैसला लें।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!