fbpx Press "Enter" to skip to content

नक्सल हिंसा से प्रभावित लोगों को घर बनाकर देगी बघेल की सरकार

रायपुरः नक्सल हिंसा से प्रभावित लोगों के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नया एलान किया है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांघी की 150 वीं जयन्ती पर विधानसभा में आज से राज्य में

चार नई योजनाएं शुरू करने के साथ ही नक्सल हिंसा से प्रभावित लोगो को आवास बनाकर देने का ऐलान किया।

श्री बघेल ने गांधी जी की 150वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में आयोजित विधानसभा के

विशेष सत्र में राज्य में आज से मुख्यमंत्री सुपोषण योजना,मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना

,मुख्यमंत्री शहरी स्लम स्वास्थ्य योजना,यूनिवर्सल पीडीएस योजना एवं मुख्यमंत्री वार्ड कार्यालय शुरू

करने,आदिवासियों की सेवा में उत्कृष्ट योगदान देने वाले डा.प्रभुदत्त खेड़ा की स्मृति में

उनके नाम से पुरस्कार शुरू करने तथा नक्सल हिंसा से प्रभावित बेघर लोगो को

मकान बनाकर देने का एलान किया।

नक्सली हिंसा की चर्चा करते हुए महात्मा गांधी को भी याद किया

उन्होने कहा कि महात्मा गांधी आजादी के आंदोलन के समय भी प्रासंगिक थे, आज भी प्रासंगिक हैं

और आगे भी प्रासंगिक रहेंगे। वे ऐसे महापुरुष थे, जिनके आदर्शों को उनके विरोधियों ने भी अंगीकार किया।

महात्मा गांधी के राष्ट्रवाद एवं मौजूदा समय में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद में भारी फर्क होने का

उल्लेख करते हुए उन्होने कहा कि गांधी का राष्ट्रवाद सभी धर्मों का आदर,सभी को

साथ लेकर चलने का था जबकि आज के राष्ट्रवाद में राष्ट्र को कुचला जा रहा है।संविधान अर्थहीन होता जा रहा है।

गांधी यो योगदान को भुलाने की कोशिश हो रही है।उन्हे बदनाम करने उन्हे उपेक्षित करने का काम हो रहा है।

उन्होने कहा कि वेद और उपनिषदों के समय से ही अहिंसा की बात होती रही,

तत्कालीन सामाजिक परिस्थितियों में गौतम बुद्ध और महावीर स्वामी ने भी अहिंसा की बात कही।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ऐसे महापुरुष थे जिन्होंने संतों की वाणी को अपने जीवन में

अंगीकार किया।महात्मा गांधी ने अहिंसा और सत्य के रास्ते पर चलकर देश को

अंग्रेजों से आजादी दिलाई, इसके पहले कहीं भी अहिंसक क्रांति नहीं हुई थी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

6 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!