Press "Enter" to skip to content

आने वाले दिनों में अयोध्या की पहचान एक विश्व स्तरीय शहर की होगी :योगी




अयोध्या: आने वाले दिनों में अयोध्या शहर विश्व के मानचित्र में एक बेहतरीन शहर के




तौर पर नजर आयेगा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बात कही।

 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान

रामलला का दर्शन करने के बाद प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर में जाकर मत्था टेका और कहा

कि अयोध्या विश्वस्तरीय शहर के रूप में सामने आयेगा । मुख्यमंत्री ने आज यहां

श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला का दर्शन व आरती करने के बाद प्रसिद्ध

हनुमानगढ़ी मंदिर में जाकर मत्था टेका और अंतर्राष्ट्रीय रामकथा संग्रहालय एवं आर्ट

गैलरी में जनप्रतिनिधियों से मुलाकात की तथा हो रहे विकास कार्यों का जानकारी भी ली।

रामकथा संग्रहालय में अधिकारियों के संग विकास कार्यों की बैठक कर समीक्षा भी की ।

उन्होंने श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की अध्यक्ष एवं मणिराम दास छावनी के महंत

नृत्यगोपाल दास से भी मुलाकात की । श्री योगी ने कहा कि अयोध्या एक धार्मिक स्थल

है। हम अयोध्या को विश्व स्तरीय शहर बनायेंगे । उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया

कि मौजूदा परियोजना को विश्व स्तरीय शहर बनाने के लिये समयबद्ध ढंग से कार्य करें।

आने वाले दिनों में धार्मिक पर्यटन का केंद्र बने अयोध्या

उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों को ध्यान में रखते हुए अयोध्या के निर्माण में केवल

निर्माण ही नहीं उसके वास्तु सांस्कृतिक महत्व श्रद्धालुओं को केन्द्र मानकर करना होगा।




शहर की साफ-सफाई, सीवर, जल निकासी, स्वच्छता, पेयजल आदि मानकों को पूरा करें।

उन्होंने कहा कि अयोध्या को आकर्षण का केन्द्र बनाने के लिये धर्मशालाओं, पुराने मंदिरों

को संतों से समन्वय कर उसके जीर्णोद्धार की कार्यवाही करने और आम श्रद्धालुओं हेतु

मंदिरों में भी सुविधा बनाने हेतु कार्य करने को कहा। अयोध्या के सुरक्षा सम्बन्धित

मानकों में जो निर्णय हुआ उसको तत्काल अमल में लाया जाय। श्री रामजन्मभूमि कंट्रोल

के लिये बारह हजार वर्ग मीटर जमीन की तत्काल व्यवस्था की जाय तथा कमांडों के रहने

हेतु प्राधिकरण द्वारा निर्मित आवासों को तत्काल किराये पर लेकर आवश्यक कार्यवाही

की जाय। उन्होंने कहा कि रामायणकालीन वनस्पति करीब 88 चिन्हित किये गये हैं।

उसमें वन एवं उद्यान विभाग बेहतर समन्वय करके चौरासी कोसी, चौदह कोसी एवं

पंचकोसी मार्गों पर पौधारोपण किया जाये। आने वाले दिनों में इसे धार्मिक पर्यटन के

प्रमुख केंद्र के तौर पर विकसित करने की सोच के तहत मुख्यमंत्री ने अयोध्या नगर के

रामजन्मभूमि के आसपास चल रहे निर्माण कार्यों तथा छह फ्लाई ओवर और सम्बन्धित

कार्यों, शहर की पेयजल योजनाओं, सीवर योजनाओं आदि को जल्द से जल्द पूरा करने के

भी निर्देश दिये



More from उत्तरप्रदेशMore posts in उत्तरप्रदेश »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

Leave a Reply