fbpx

कोरोना संकट की वजह से औसत उम्र में डेढ़ साल की कमी

कोरोना संकट की वजह से औसत उम्र में डेढ़ साल की कमी
  • दूसरे विश्वयुद्ध के बाद भी ऐसा ही हुआ था वहां

  • अफ्रीकी मूल के लोगों ने इसका प्रभाव सर्वाधिक

  • अधिक दवा के सेवन से भी लोग मारे गये हैं

वाशिंगटनः कोरोना संकट की वजह से अमेरिका में लोगों की औसम उम्र में डेढ़ साल की

कमी हो गयी है। दूसरे विश्वयुद्ध के बाद अमेरिकी में उम्र घटना का यह सबसे बड़ा मामला

है। वहां आम तौर पर लोगों की उम्र 78.8 वर्ष औसत है। कोरोना संकट की वजह से अब यह

औसत घटकर 77.3 वर्ष रह गया है। शोध करने वालों को आशंका है कि आने वाले दिनों में

यह औसत और भी नीचे जा सकता है क्योंकि कोरोना से उबरने के बाद भी अनेक लोग

दूसरे किस्म की परेशानियों को झेल रहे हैं। इसी वजह से एक पुरानी कहावत सच साबित

होती नजर आ रही है, जिसमें यह कहा गया है कि चिंता से चतुराई घटे दुख से घटे शरीर।

वैसे कबीर दास के इस दोहे की आगे की पंक्ति यह भी हैं कि पाप से लक्ष्मी घटे, कह गए

दास कबीर।

कोरोना संकट की वजह से अफ्रीकी मूल पर अधिक असर

कोरोना संकट के प्रारंभ होने के बाद से ही अमेरिकी में इस महामारी के फैलते चले जाने की

वजह से जो बदलाव आया है, उसके वहां की सीडीसी नेशनल सेंटर फॉर हेल्थ

स्टैटिक्सटिक्स ने जारी किया है। इससे पूर्व दूसरे विश्वयुद्ध की दौरान लोगों को जो

मानसिक और दूसरे किस्म का तनाव झेलना पड़ा था, उस दौरान औसत आयु में 2.9 वर्ष

की कमी आ गयी थी। जिसे संभलने में काफी समय लगा था। इस संबंध में यह भी देखा

गया है कि अफ्रीकी मूल के अमेरिकियों में यह गिरावट 2.9 वर्ष की दर्ज की गयी है।

अमेरिकी में सबसे अधिक जीवन जीने वाले हिस्पानिक लोगों में यह गिरावट तीन वर्षों की

है। इसी मूल के पुरुषों का औसत उम्र 3.7 वर्ष घट गया है। शोधकर्ता मानते हैं कि दरअसल

मानसिक चिंता के साथ साथ अतिरिक्त दवा के सेवन की वजह से भी लोग असमय काल

कवलित हुए हैं। दूसरी तरफ कोरोना के ईलाज के दौरान होने वाली अन्य बीमारियों का भी

मारक असर अमेरिकी आबादी पर पड़ा है। अनेक लोग कोरोना के बाद अन्य कारणों से

असमय मृत्य को प्राप्त हुए हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Rkhabar

Rkhabar

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: