Press "Enter" to skip to content

इसी सम्मेलन में मैं आपको शीशा दिखाकर हीरा बेचने नहीं आया हूः सुखदेव सिंह

Spread the love



रांचीः इसी सम्मेलन में राज्य के मुख्य सचिव ने कहा कि आज झारखण्ड में एक बेहद ही




युवा, डायनामिक और संवेदनशील मुख्यमंत्री की अगुवाई में बनी एक बेहद ही मजबूत

सरकार है। अपनी डायनामिक नेतृत्व क्षमता के दम पर कोविड19 के दौर में राज्य के

मुख्यमंत्री ने देशभर में सबसे बेहतर तरीके से इस महामारी के दौरान राज्यवासियों की

सेवा की। बेहद ही संवेदनशील तरीके से अपने लोगों की चिन्ता करते हुए  इसी सम्मेलन

माननीय मुख्यमंत्री ने महामारी के दौरान सुदूरवर्ती क्षेत्रों में फंसे लोगों को हवाई जहाज

और ट्रेन से वापस लाया। आज वही मुख्यमंत्री आपके सहयोग की अपेक्षा करते हुए आपके

विचारों को सुनने के लिए आपके सामने बैठे हैं। भविष्य में नीतियां किस तरह की हों,

किस तरह की इंडस्ट्री पॉलिसी तैयार की जाएं ताकि इन्वेस्टमेंट को बढ़ावा दिया जा सके।

मुख्य सचिव ने कहा कि हमारा राज्य एक मिनरल रिच स्टेट है। कोयला, लोहा, यूरेनियम,

सोना ये सब हमारे राज्य की संपदा हैं। किंबरलाइट जैसे पत्थर जिनमें हीरा निकलने की

संभावना होती है वो गुमला और लोहरदग्गा में पाए गए हैं। ये हमारी ताकत है। आपको

भरोसा नहीं होगा कि देश का 36% कोयला संपदा झारखण्ड में है, 90% कोकिंग कोल

झारखण्ड में मिलता है। अगर आप लौह अयस्क की बात करेंगे तो मुझे लगता है हम इस

क्षेत्र में अग्रणी राज्य झारखण्ड है। आज झारखण्ड में टाटा, बोकारो स्टील, हैवी

इंजीनियरिंग कॉर्पोरेशन जैसी इंडस्ट्री चल रही है। कोई भी इन्वेस्टर अगर मिनरल बेस्ड

इंडस्ट्री लगाना चाहते हैं तो हम उनका तहे दिल से स्वागत करते हैं।

इसी सम्मेलन में मुझे लगता है इस क्षेत्र में अग्रणी राज्य  है

मुख्य सचिव ने कहा कि कनेक्टिविटी का बात करें तो हमारे राज्य के 24 में से 22 जिले

दूसरे राज्यों की सीमाओं से घिरे हैं। हमारे पास रेल, रोड और एयर कनेक्टिविटी की

सुविधा है। 22,000 किमी रोड नेटवर्क, 23 राष्ट्रीय राजमार्ग हमारे राज्य से अलग-अलग

हिस्सों में बिछे हुए हैं, जीटी रोड हमारे राज्य से होकर गुजरती है। डेडिकेटेड फ्रेट कोरिडोर

भी झारखण्ड से होकर गुजरने वाली है। यहां तक कि जलमार्ग के जरिए भी परिवहन का

संसाधन हमारे राज्य में उपलब्ध है।

संसाधनों के मामले में हम पीछे

मुख्य सचिव ने बताया कि झारखण्ड में प्रचूर मात्रा में ऊर्जा संसाधन उपलब्ध है। कोयला

उत्पादन के क्षेत्र मंं अग्रणी राज्य होने की वजह से हमारे राज्य में विद्युत उत्पादन प्रचूर

मात्रा में हो रहा है। कई विद्युत उत्पादन प्लांट हमारे राज्य में कार्यरत हैं। बहुत जल्द

चतरा के टंडवा में 1000 मेगावाट पावर उत्पादन प्लांट शुरू किया जाएगा, इसके




अतिरिक्त पतरातू में 4000 मेगावाट पावर प्लांट भी शुरू होने वाला है। जल संसाधन के

मामले में भी झारखण्ड अग्रणी है। हमारे राज्य में गंगा, दामोदर, महानदी जैसी बड़ी

नदियां सहित कई सहायक नदियां बहती हैं। इसलिए जल संसाधन किसी भी तरह से

इंडस्ट्रीयल यूनिट के लिए कोई समस्या नहीं होगी।

मुख्य सचिव ने कहा कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के बारे में बात करें तो हमारा राज्य

लगातार सालों से देशभर में 5वें या छठे नंबर पर रहा है। सभी प्रकार के क्लियरेंस

ऑनलाइन दिए जाने की सुविधा है। हम इसे और भी बेहतर करने में लगे हैं। इसे एक

सिंगल विंडो सिस्टम में तब्दील किया जा रहा है। हमारे राज्य में 33% से ज्यादा भूखण्ड

जंगलों से आच्छादित है। हम देशभर में सबसे ज्यादा मात्रा में लाह का उत्पादन करते हैं

लेकिन हमारे राज्य में लाह के प्रसंस्करण के लिए कोई सुविधा नहीं है। फूड प्रोसेसिंग

यूनिट के लिए भी झारखंड में संभावनाएं है।

नक्सलवाद की समस्या अपने अंतिम चरण में

इसके लिए झारखण्ड एक आदर्श राज्य है। अंत में मैं आपको यह भरोसा दिलाता हूं कि

आम जनभावना के विपरीत निवेशकों के लिए झारखण्ड एक बेहद ही सुरक्षित राज्य है।

नक्सलवाद कुछ जिलों के सुदूरवर्ती इलाकों में नक्सलवाद की समस्या है जो कि अपने

अंतिम चरण में है। लेकिन राज्य सरकार इस समस्या को पूर्ण रूप से समाधान करने के

लिए तैयार है। इजराइली लेखक हरारी ने कहा था, किसी देश का विकास इसकी संपदा पर

निर्भर नहीं करता बल्कि कैपीटल इनफ्लो पर निर्भर करता है और कैपीटल इन्फ्लो तीन

चिजों पर निर्भर होती है- लेजीटिमेसी ऑफ गवर्नमेंट, इन्फॉर्सिबिलिटी ऑफ कॉन्ट्रैक्ट लॉ

और न्यायपालिका के इंडिपेंडेंस पर। आपको झारखण्ड में ये सभी चिजें मिलेंगी। अंत मे मैं

आपको याद दिला दूं, हम आपको यहां शीशा दिखा कर हीरा, चांदी दिखाकर सोना या फिर

लोहा को चांदी की तरह बेचने के लिए नहीं आया हूं। हम आपको हीरा को साफ सुथरा

करके दिखाना चाहते हैं और पूछना चाहते हैं कि क्या इसकी चमक और बढ़ाई जा सकती

है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, उद्योग सचिव श्रीमती

पूजा सिंघल, रेजिडेंट कमिश्नर झारखण्ड भवन दिल्ली मस्तराम मीणा, निदेशक उद्योग

जितेंद्र सिंह व देश के विभिन्न हिस्सों से आये उद्योगपति उपस्थित थे।



More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »

3 Comments

Leave a Reply