fbpx Press "Enter" to skip to content

असम के नौगांव में बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत

  • कुंडोली रिजर्व फॉरेस्ट में हुआ यह भयानक हादसा

  • पर्यावरण एवं वन मंत्री ने दिए जांच के आदेश

  • 14 पहाड़ के ऊपर और 4 शव नीचे पड़े हुए थे

  • देश में एक साथ इतने हाथी कभी नहीं मरे थे

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: असम के नौगांव जिले के एक जंगल में बिजली गिरने से 18 हाथियों की मौत हो

गई। भारतवर्ष में पहली बार इतने बड़ी संख्या के हाथियों का एक साथ मौत हुई है। प्रधान

मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव) अमित सहाय ने संवाददाता को बताया, यह घटना बुधवार

रात को काठियातोली रेंज में कुंडोली प्रस्तावित रिजर्व फॉरेस्ट की एक पहाड़ी पर हुई । क्षेत्र

बहुत दूरदराज के है और हमारी टीम गुरुवार दोपहर को वहां पहुंच सकता है । पता चला कि

शव दो गुटों में पड़े हुए हैं। उन्होंने कहा, चौदह हिल के ऊपर पड़े थे और चार पहाड़ी के नीचे

पाए गए। सहाय ने कहा, प्रारंभिक जांच में पाया गया कि कल रात बिजली गिरने से करंट

लगने से जंबोस की मौत हुई है, लेकिन सही कारण पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा, जो

शुक्रवार को किया जाएगा ।इस त्रासदी के बाद असम के वन एवं पर्यावरण मंत्री परिमल

सुकलबेद्य ने आज नौगांव जिले के बामुनी हिल्स के घटनास्थल का दौरा किया है। इस

मामले में प्रारंभिक जांच के अनुसार पता चला कि जंगली हाथी बुधवार की रात बिजली के

हमले का शिकार हुए थे। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने इस मामले पर चिंता

व्यक्त करते हुए सुलेबिद्या को कल ही हाथियों के शवों के शवों के बारे में घटना स्थल का

दौरा करने को कहा ।पर्यावरण एवं वन मंत्री परिमल सुलेबिद्या ने नौगांव जिले के

कोठियातुली वन रेंज अंतर्गत बामुनी पहाड़ में 18 हाथियों की मौत की जांच के आदेश

दिए।

असम के नौगांव की इस घटना की रिपोर्ट 15 दिनों में

वन उप वन संरक्षक केके देवरी की अध्यक्षता में एक जांच समिति गठित की गई है और

जिसमें पशु चिकित्सकों की सात सदस्यीय टीम गठित की गई है, जिसकी प्रारंभिक रिपोर्ट

तीन दिन के भीतर और विस्तृत जांच रिपोर्ट 15 दिन के भीतर सौंपी जाएगी। शीर्ष वन

अधिकारियों के साथ स्थिति का आकलन करने के बाद मंत्री सुलेबिद्या ने प्रारंभिक जांच

से कहा कि यह पता चला है कि पैचिडरम्स की मौत शायद बिजली गिरने के कारण हुई है

क्योंकि उनकी मौत से पहले संघर्ष के कोई संकेत नहीं दिख रहे थे लेकिन पोस्टमार्टम

रिपोर्ट के साथ-साथ जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने के बाद उनकी दुखद मौत का सही कारण

खुले में सामने आएगा।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from असमMore posts in असम »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: