Press "Enter" to skip to content

भारत में बड़े हमले की साजिश की नाकाम




  • म्यांमार सीमा पर 582 किलो के 200 आईईडी बरामद

  • पाकिस्तानी आईएसआई ने गोला-बारूद सप्लाई किया

  • गृह मंत्रालय ने फिर से सतर्क रहने को कहा

  • सभी सीमाओं पर पैनी नजर रखे सुरक्षा बल

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : भारत में बड़े हमले की साजिश का भंडाफोड़ हुआ है। भारत-म्यांमार सीमा पर सेना को बड़ी कामयाबी मिली है।




43 असम राइफल्स के जवानों ने सीमा के पास से चेकिंग के दौरान 582 किलोग्राम वजन के 200 से ज्यादा आईईडी बरामद किया है।

सेना ने बड़े हमले की साजिश को नाकाम कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, मणिपुर के मोरेह में भारत-म्यांमार सीमा पर 43 असम राइफल्स के जवानों ने लगभग 582.5 किलोग्राम वजन के 200 से अधिक आईईडी बरामद किए हैं।

सेना की खुफिया रिपोर्ट के अनुसार असम राइफल्स ने भारत-म्यांमार सीमा के पास मिजोरम में भारी आईईडी से गोला-बारूद बरामद किया।

यह कार्रवाई विशेष सूचना के आधार पर मिजोरम के चंघई जिले के तिऊ काई गांव के पास की गई।

असम राइफल्स के कमांडमेंट ऑफिसर ने बताया कि सभी हथियारों के गोला-बारूद को पाकिस्तानी आईएसआई ने भारतीय आतंकी को सप्लाई किया है।

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई भारत में अशांति पैदा करने के लिए आतंकी संगठनों के साथ मिलकर म्यांमार से गोला-बारूद भेज रही है।

पाकिस्तानी आईएसआई भारत में आतंकवादी संगठनों एनएससीएन (आईएम), मणिपुर लिबरेशन आर्मी, उल्फा और अन्य आतंकवादी का उपयोग कर रहा है।

भारतीय सेना की खुफिया एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय सेना और असम राइफल्स अंतरराष्ट्रीय सीमावर्ती इलाकों पर पैनी नजर रखे हुए हैं।




असम राइफल्स ने भारत में पाकिस्तानी आईएसआई के नेतृत्व में आतंकी संगठनों के बड़े हमले को नाकाम कर दिया।

भारतीय सेना के एक अधिकारी की रिपोर्ट के मुताबिक, गृह मंत्रालय ने अब भारत और बांग्लादेश और भारत-म्यांमार, भारत और चीन के बीच सभी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं पर पैनी नजर रखने का निर्देश दिया है।

भारत में बड़े हमले की साजिश अब इसी उत्तर पूर्व से

मुख्यालय आइजीआर (पूर्व) ने एक बयान में कहा, “असम राइफल्स के जवानों ने 8 नवंबर, 2021 देर रात को चंफाई जिले के तिऊ काई गांव के ग्राम परिषद प्रतिनिधियों के साथ सेरचिप बटालियन के चैंघई पोस्ट से एक ऑपरेशन शुरू किया था।

सेना के अधिकारी ने बताया कि टीम के पास तिऊ काई गांव के पास जंगल में कैश की मौजूदगी की खास जानकारी थी।

बयान में कहा गया है कि असम राइफल्स की टीम ने ग्राम परिषद के प्रतिनिधियों के साथ तिऊ काई के प्रतिनिधियों के साथ मिलकर गांव के पास विस्तृत तलाशी ली और गोला-बारूद और अन्य युद्ध जैसी दुकानों का भारी जखीरा बरामद किया।

असम राइफल्स ने कहा कि इस तरह के युद्ध जैसे स्टोरों के इस्तेमाल से निर्दोष लोगों की जान खतरे में पड़ सकती थी और विभिन्न अवैध गतिविधियों का नेतृत्व किया।

इस वसूली ने बहुमूल्य जीवन के नुकसान को रोका है। की गई वसूली में 200 लाइव राउंड, नियोगेल जिलेटिन के 98 नंबर और 655 नंबर के डेटोनेटर थे, इसकी पूरी तरह से पख्तिस्तानी सेना और खुफिया आईएसआई में शामिल हो सकती है।

मुख्यालय आइजीएगर (पूर्व) ने कहा, ‘असम राइफल्स के मित्र पहाड़ी लोगों की गणना राष्ट्र विरोधी गतिविधियों से लड़ने के लिए की गई है।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: