fbpx Press "Enter" to skip to content

असम में पुलिस सब-इंस्पेक्टर पद के करोड़ों के घोटाले

  • फरार पूर्व डीआईजी और बीजेपी नेता पर 1-1 लाख रुपये का इनाम

  • अभियुक्तों के खिलाफ पुलिस का लुकआउट नोटिस जारी

  • घोटाले में कई भाजपा और आरएसएस नेता शामिल

  • पुलिस उच्चाधिकारियों भी शामिल होने का आरोप

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : असम में पुलिस भर्ती प्रश्न पत्र के लीक मामले में सात और लोगों को गिरफ्तार

किया गया है। सात लोगों की गिरफ्तारी के बाद अब कुल अरेस्ट आरोपियों की संख्या बीस

हो गई है। इधर पेपर लीक के प्रमुख आरोपी पूर्व डीआईजी और बीजेपी नेता अब भी

गिरफ्त से बाहर हैं। डीजीपी भाष्कर ज्योति महंत ने दोनों फरार आरोपियों पर 1-1 लाख

रुपये का इनाम घोषित किया है।मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने भी इस मामले में राज्य

स्तरीय पुलिस रिक्रूटमेंट बोर्ड का फिर से गठन किया है। यह बोर्ड अब 20 सितंबर को

कैंसल हुई पुलिस भर्ती की परीक्षा फिर से कराएगा। डीजीपी ने कहा कि उपनिरीक्षकों की

भर्ती के लिए परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक होने में संलिप्त लोगों को गिरफ्तार किया जाएगा

चाहे वे किसी भी राजनीतिक दल से जुड़े हों या किसी भी पद पर हों। महंत ने कहा, ‘हम पूर्व

डीआईजी पी के दत्ता और दीबान डेका को गिरफ्तार करने पर गौर कर रहे हैं। वे फरार हैं।

उन्हें पकड़ने के लिए हमने दोनों के ऊपर एक-एक लाख रुपये का इनाम घोषित किया है।

दोनों मुख्य आरोपियों के बारे में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून-व्यवस्था) ज्ञानेंद्र

प्रताप सिंह ने कहा, ‘हमने दत्ता के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया है ताकि वह देश

नहीं छोड़ सके। उनके बारे में सभी संबंधित सूचनाएं जारी कर दी गई हैं।’ सिंह ने कहा कि

उनकी बेहिसाब संपत्ति के खिलाफ अलग से मामला दर्ज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि

दत्ता के पास गुवाहाटी में चार लग्जरी होटल और कई आवासीय संपत्तियां, कछार जिले

में 1600 बीघा जमीन, डिब्रूगढ़ और देश के अन्य हिस्सों में अपार्टमेंट हैं।

असम में पुलिस एसआइ की परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक किये गये

असम पुलिस में उपनिरीक्षकों के 597 पदों की लिखित परीक्षा का प्रश्न पत्र 20 सितंबर को

लीक हो गया था और परीक्षा शुरू होने के कुछ मिनट के अंदर ही इसे रद्द कर दिया गया

था। राज्य भर में 154 केंद्रों पर करीब 66 हजार उम्मीदवार परीक्षा में बैठे थे।हालाँकि ,आम

जनता और कुछ उम्मीदवार ने आरोप लगाया है कि इस घोटाले में कई भाजपा और

आरएसएस नेता, कुछ विधायक, जिनमें उच्च स्तर के पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं

लेकिन सरकार ने इस आरोप पर चुप्पी साधी हुई है।प्रदेश में विपक्षी दल कांग्रेन ने कहा कि

असम पुलिस भर्ती परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक घोटाले में बीजेपी एक वरिष्ठ नेता शामिल हैं।

उन्होंने दावा किया कि इसके पीछे आरएसएस का हाथ है। कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया

कि आरएसएस अपने काडर को राज्य पुलिस बल में प्रवेश दिलाने की योजना बना रहा है।

वहीं ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (आसू) ने राज्य भी में प्रदर्शन किया और असम के

मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल का पुतला दहन किया।असम प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष

रिपुन बोरा ने कहा कि पुलिस के खिलाफ पुलिस विभाग की जांच निष्पक्ष कैसे हो सकती

है? घोटाले के संबंध में बीजेपी किसान मोर्चे के राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य डिबान डेका का

नाम सामने आया है। हम सीबीआई से से निष्पक्ष जांच की मांग करते हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from असमMore posts in असम »
More from कामMore posts in काम »
More from घोटालाMore posts in घोटाला »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from शिक्षाMore posts in शिक्षा »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: