fbpx Press "Enter" to skip to content

असम के विधायक अमीनुल इस्लामको पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : असम के विधायक अमीनुल इस्लाम को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

उनकी गिरफ्तारी उनके बयानों की वजह से हुई है। वह लगातार कोरोना संक्रमण के संबंध

में गलत बयान दे रहे थे और इसे सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रहे थे। उत्तर पूर्व

राज्यों में कोरोना का कहर बढ़ता जा रहा है। असम में कोरोना वायरस के मरीजों की

संख्या फिलहाल 27 से ऊपर पहुंच चुकी है। असम पुलिस ने मंगलवार को ऑल इंडिया

यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ) के नेता अमीनुल इस्लाम को कोविद -19

संगरोध केंद्रों अलगाव केंद्र पर उनकी कथित टिप्पणियों के लिए गिरफ्तार कर लिया।

नौगांव पुलिस को एक ऑडियो क्लिप मिली थी, जिसमें इस्लाम ने पूरी स्थिति को

सांप्रदायिक रंग देने का प्रयास किया था। उसने कहा था कि कोरोना वायरस केंद्र, डिटेंशन

सेंटर से भी बदतर हैं।’ राज्य पुलिस प्रमुख ज्योति महंत ने बताया कि अखिल भारतीय

संयुक्त गणतांत्रिक मोर्चा के ढिंग निर्वाचन क्षेत्र से विधायक अमीनुल इस्लाम को

प्राथमिक जांच के बाद आज सुबह गिरफ्तार किया गया। उन्होंने असम सरकार पर

कोरोना वायरस की आड़ में मुसलमानों के खिलाफ साजिश रचने का भी आरोप लगाया

था। इस्लाम ने कहा कि संगरोध केंद्र में मेडिकल स्टाफ उन लोगों को परेशान कर रहे थे

जो निजामुद्दीन से लौटे थे। साथ ही स्वस्थ लोगों को बीमार और कोरोना वायरस रोगियों

के रूप में मार्क करने के लिए इंजेक्शन दे रहे थे।

असम के विधायक ने पहले भी दी थी गलत जानकारी

इससे पहले, धींग विधायक ने दावा किया था कि निजामुद्दीन मरकज में कोई भी मौजूद

नहीं है। कोरोना वायरस और कोविड-19 रोग के प्रसार के साथ निजामुद्दीन मरकज का

कोई संबंध नहीं था। इस बीच, राज्य में कोविड-19 के कुल मामले तबलीगी जमात

परीक्षण के पॉजिटिव आने के बाद और बढ़ गए हैं। इधर असम के विधायक का इस किस्म

का बयान वायरल होने के बाद स्थानीय स्तर पर अनेक लोगों ने ऐसे गैर जिम्मेदाराना

और दंगे भड़काने वाले बयान की निंदा की है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat