fbpx Press "Enter" to skip to content

चीन से लाये पीपीई किट का इस्तेमाल असम में नहीं होगा

  • गुणवत्ता को लेकर उठ रहे हैं तरह तरह के सवाल

  • जिन्हें इस्तेमाल करना है उन्हें भरोसा होना चाहिए

  • डीआरडीओ ने सफाई दी है कि उसने खारिज नहीं किया

  • अभी इस्तेमाल करने का फैसला नहीं लिया जा सकता है

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटीः चीन से लाये गये पीपीई किट का इस्तेमाल अब असम में नहीं होगा। दरअसल

इनकी गुणवत्ता और संक्रमण को रोकने में इनकी कारगर भूमिका पर कई भारतीय

वैज्ञानिक संगठनों ने सवाल उठाये हैं। भारतीय वैज्ञानिकों की सलाह पर अमल करते हुए

असम सरकार ने इन पीपीई किटों का इस्तेमाल नहीं करने का फैसला किया है। चीन से

खरीदे गये इन उपकरणों का इस्तेमाल नहीं करने की घोषणा राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत

विश्वशर्मा ने की है।

दूसरी ओर असम के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने कहा है कि राज्य में अब से चीन

से आए हुए पीपीई का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। इसकी क्वालिटी को लेकर तमाम

सवाल उठ रहे हैं। चीन में निर्मित पीपीई किट भारतीय मानकों पर खरी नहीं उतरीं। बता दें

कि असम ने बुधवार शाम को चीन के गुआंसे आए हुए गझोउ से 50,000 व्यक्तिगत

सुरक्षा उपकरण (पीपीई) किट प्राप्त किए। मंत्री ने कहा कि कुछ तबकों की ओर से ये

‘‘निराधार आरोप’’ लगाए जा रहे हैं कि चीन निर्मित जांच किट जांच में विफल हुई हैं और

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने इन्हें खारिज कर दिया है। उन्होंने

एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि डीआरडीओ पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि उसने

किसी जांच किट को खारिज नहीं किया है। मंत्री ने कहा कि उन्हें कई डॉक्टरों और नर्सों की

ओर से इस बारे में संदेश मिले हैं। वह नहीं चाहते कि उन्हें इस मोड़ पर कोई भ्रम हो या

उनका मनोबल गिरे, इसलिए अभी उनके इस्तेमाल न करने का फैसला किया गया है।

इनका इस्तेमाल कोरोना वायरस संक्रमण के उपचार से जुड़े डॉक्टरों और

चिकित्साकर्मियों द्वारा किया जाता है।

चीन से लाये गये किट को लेकर स्वास्थ्यकर्मी चिंतित

दूसरी ओर देश के पूर्वोत्तर राज्यों में लॉकडाउन के समय कोरोना का संक्रमण पहुंचा है।

हालांकि इन राज्यों में मरीजों की संख्या कम और स्थिर रही है। इनमें मिजोरम, मेघालय,

नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, त्रिपुरा हैं। वहीं दूसरी तरफ मेघालय के मुख्यमंत्री

कॉनराड संगमा ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि राज्य में कुल कोरोना संक्रमित सक्रिय

मामलों की संख्या 10 हो गई हैं। स्वास्थ्य और परिवार मामलों के मंत्रालय के आंकड़ों के

अनुसार, राज्य में केवल एक मौत के साथ 11 मामले हैं। आज असम ने कोरोनो वायरस के

दो नए मामलों की सूचना दी और स्वास्थ्य और परिवार मामलों के मंत्रालय के अनुसार

राज्य में कोरोना पीड़ितों की संख्या 35 तक पहुंच गयी है। राज्य में पहला मामला

करीमगंज जिले के एक 52 वर्षीय व्यक्ति का था। असम में ऐसे मामलों में तेजी देखी गई

जब दिल्ली में तबलीगी जमात कांग्रेस में शामिल हुए लोग वापस लौट आए। आज जो

मामले सामने आए, वे दो पुलिस अधिकारियों के थे, जिन्हें छोड़ दिया गया है। केंद्र सरकार

द्वारा जारी हालिया दिशानिर्देशों में, पांच जिलों को हॉट स्पॉट जिलों के रूप में नामित

किया गया था


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

4 Comments

Leave a Reply

Open chat