Press "Enter" to skip to content

असम के साथ मेघालय के सीएम की बैठक शाह के निर्देश पर




  • जल्द खत्म होगा असम-मेघालय सीमा विवाद

  • क्षेत्रीय समितियों ने सौंपी अपनी अपनी रिपोर्ट

  • 15 जनवरी से पहले 12 विवादों की हल करने का फैसला

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : असम के साथ कई राज्यों का सीमा विवाद चल रहा है। इस विवाद में सबसे बड़ा विवाद है मिजोरम का जिसमें की मासूमों की जान गई हैं। इसी तरह से मेघालय के साथ भी असम सीमा विवाद है। लेकिन केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के निर्देशानुसार समझदारी से काम लेते हुए दोनों राज्यों मुख्यमंत्रियों शांति से विवाद को सुलझाने का फैसला लिया हैं।




असम और मेघालय के बीच पैदा हुए सीमा विवाद अब जल्द ही खत्म होता दिखाई दे रहा है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के निर्देशानुसार आज असम और मेघालय के मुख्यमंत्रियों के साथ जरूरी बैठक हुई है ।बैठक में 15 जनवरी से पहले दो पूर्वोत्तर राज्यों के बीच 12 अंतर-राज्य सीमा विवादों में से छह को हल करने का फैसला किया है।

गृहमंत्री अमित शाह के निर्देशानुसार सीमा विवाद को समाप्त करने की दिशा में दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बीच बैठक आयोजित की गई, जिसमें बातचीत के जरिए सीमा विवाद को सुलझाने पर चर्चा की गई है। असम और मेघालय लंबे समय से चले आ रहे अंतरराज्यीय सीमा विवाद को बातचीत के जरिए सुलझाने की दिशा में ‘सकारात्मक प्रगति’ कर रहे हैं और जल्द ही आपसी समाधान निकलने की उम्मीद है।

बैठक के बाद असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि हमारी क्षेत्रीय समितियों ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है और हम कई विवादित सीमा क्षेत्रों पर अंतिम समझौते की दिशा में काम कर रहे हैं। वहीं, मेघालय के उप मुख्यमंत्री प्रेस्टन तिनसोंग ने कहा कि छह क्षेत्रों में विवाद हैं और मुझे यकीन है कि हम कम से कम कुछ क्षेत्रों में समाधान खोजने में सक्षम होंगे।




असम के साथ अन्य राज्यों का भी सीमा विवाद

बता दें कि असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने दोनों पड़ोसियों के बीच सीमा विवाद को सुलझाने में प्रगति पर चर्चा करने के लिए गुवाहाटी में बैठक के लिए अपने मेघालय समकक्ष कोनराड संगमा की मेजबानी की। दो महीने में इस मुद्दे पर दोनों राज्यों के बीच मुख्यमंत्री स्तर की यह दूसरी बैठक है और इस साल मई में सरमा के असम में मुख्यमंत्री बनने के बाद यह चौथी बैठक रही।

गौरतलब है कि असम और मेघालय के बीच सीमा विवाद को सुलझाने के लिए दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों बैठक में उनके साथ उनके संबंधित राज्यों के कई कैबिनेट मंत्री भी शामिल थे, जो वर्तमान में विवाद के छह बिंदुओं को देखने के लिए दोनों राज्यों द्वारा गठित क्षेत्रीय समितियों के सदस्य हैं।

इस बीच, दोनों राज्यों की क्षेत्रीय समितियों ने अपनी-अपनी सरकारों को रिपोर्ट सौंप दी है ।मेघालय के उपमुख्यमंत्री प्रेस्टोन तिनसोंग ने कहा कि बैठक में निर्णय लिया गया है कि दोनों राज्यों द्वारा गठित क्षेत्रीय समितियां 31 दिसंबर तक संबंधित मुख्यमंत्रियों को अपनी रिपोर्ट सौंप देंगी और फिर बैठक होगी, 15 जनवरी तक हमें छह स्थानों पर विवादों के समाधान की उम्मीद है।



More from HomeMore posts in Home »
More from उत्तर पूर्वMore posts in उत्तर पूर्व »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from विवादMore posts in विवाद »

One Comment

  1. […] आयोग को कोविड प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करते हुये राज्य आयोग बैठक के बाद उन्होंने संवाददाताओं को बताया, ‘‘विधानसभा चुनाव पूरी तरह से निष्पक्ष तरीके से होगा, मैंने इसको लेकर आयोग को आश्वस्त किया है। मैंने तमाम चुनाव कराए हैं, किसी को कोई दिक्कत नहीं होगी।’’ बता दें कि आयोग के दल ने प्रमुख राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय पार्टियों के प्रतिनिधियों सहित चुनाव प्रक्रिया से जुड़े अन्य पक्षों के साथ पिछले तीन दिनों से जारी बैठकों के बाद आज राज्य के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक के साथ निर्णायक बैठक की। […]

Leave a Reply

%d bloggers like this: