fbpx Press "Enter" to skip to content

पुलिस गेस्ट हाउस के दुष्कर्म का आरोपी गिरफ्तार

रांचीः पुलिस गेस्ट हाउस में वरीय पुलिस अधिकारी के चालक की बेटी से सामूहिक दुष्कर्म

मामले में आरोपी एएसआई को रांची पुलिस ने पकड़ लिया है। जांच टीम एएसआई पर

लगे आरोप से संबंधित पूछताछ कर रही है। आरोपी एएसआई रांची के कंपोजिट कंट्रोल

रूम में पोस्टेड है। गुप्त स्थान पर एएसआई से पूछताछ चल रही है। इधर, एसएसपी सुरेंद्र

कुमार झा ने कहा कि जांच में एएसआई दोषी पाया जाएगा, तो कानूनी प्रक्रिया के तहत

कार्रवाई होगी। मालूम हो कि लोअर बाजार थाना अंतर्गत पुलिस गेस्ट हाउस में बड़े

अधिकारी के चालक की बेटी से दुष्कर्म मामले में प्रभारी डीजीपी को राज्यपाल ने तलब

किया है। राज्यपाल ने डीजीपी तो तालाब करते हुए जल्द से जल्द दोषियों की गिरफ्तारी

करने का आदेश दिया है। इससे पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को रूपा कुमारी, अध्यक्ष, बाल

कल्याण समिति, राँची ने राज भवन जाकर पुलिस गेस्ट हाउस में 12 अगस्त को

नाबालिग से हुए सामूहिक दुष्कर्म घटना की पूरी जानकारी दी। राज्यपाल महोदया ने इस

घटना को समाज के अत्यन्त शर्मसार करनेवाली घटना बताते हुए कहा कि वे इस प्रकार

के शर्मनाक एवं निंदनीय घटना के संबंध में राज्य के वरीय पुलिस पुलिस अधिकारियों से

बात करेंगी। उन्होंने कहा कि पुलिस गेस्ट हाउस में पुलिस कर्मियों द्वारा इस प्रकार के

कृत्य किये जाने की सूचना से अत्यंत आहत हैं। हमारे पुलिसकर्मी सरकार एवं शासन की

छवि होते हैं। वे इस प्रकार के कार्य करेंगे, तो लोग किस पर विश्वास करेंगे। इसलिये वे

घटना की पूर्ण जानकारी लेते हुए अपराधियों पर शीघ्र कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

पुलिस गेस्ट हाउस में दुष्कर्म पर भाजपा का आरोप

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मंत्री सुबोध सिंह गुड्डू ने कहा कि राज्य में जिन हांथो को

शासन, प्रशासन चलना था वे खुद अपराध में संलिप्त हो रहे हैं। अपराध पर नकेल कशने

हेतु व कार्रवाई किये जाने को लेकर राज्यपाल महोदया को डीजीपी को तलब करना पड़

रहा है। राजधानी रांची पुलिस के एक कर्मी पर दुष्कर्म का आरोप लगने के बाद पुलिस

द्वारा एफआईआर दर्ज नहीं किया जाना पूरे पुलिसिया सिस्टम पर सवाल खड़ा करता है।

शराब ढोए जाने में कांग्रेस, झामुमो बैनर युक्त गाड़ियों का प्रयोग किया जाना

दुर्भाग्यजनक है। लाइन टैंक रोड स्थित पुलिस के गेस्ट हाउस में लॉकडाउन के दौरान

पुलिस परिवार से जुड़ी एक नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म किया गया। दुष्कर्म

करनेवाला एक जमादार स्तर का पदाधिकारी है, तो दूसरा आरक्षी का बेटा। किन्तु

एफआईआर में पुलिसकर्मी को आरोपी नहीं बनाया जाना सिस्टम पर सवाल खड़ा करता

है। वहीं राजधानी में शराब की तस्करी में कांग्रेस के बैनर युक्त एक फॉर्च्यूनर गाड़ी पकड़ी

जाती है जिसमें शराब, तीन राइफल और नकद पैसे पकड़ा जाना सवालिया निशान खड़ा

करता है। वहीं एक अन्य झामुमो के बैनरयुक्त स्कॉर्पियो का पकड़ा जाना जिसमें 11 पेटी

शराब पकड़ा गया। यह कहानी सिर्फ एक दिन की नहीं है अलबत्ता यही कहानी प्रत्येक

दिन गुजर रहा है। राज्य की जनता भगवान भरोसे जी रही है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!