fbpx Press "Enter" to skip to content

इरबा के एस्क्लेपियस अस्पताल प्रबंधन ने ही लाशों की अदला बदली की गलती की

  • अपने परिजन की लाश को लेकर हंगामा

  • मृतक की लाश ही बदलकर दूसरे को दे दी

  • पुरुष के बदले महिला की लाश पर बवाल

  • दूसरा पक्ष जमशेदपुर पहुंचा तो अवाक हुआ

मो. मोहसीन

ओरमांझीः इरबा के एस्क्लेपियस अस्पताल की गड़बड़ी की वजह से आज वहां काफी

हंगामा हुआ। झारखंड की राजधानी रांची में हमेशा सुर्खियों पर रहने वाले एस्क्लेपियस

हॉस्पिटल इरबा फिर से चर्चा में आ गया इस बार अस्पताल प्रबंधक की बहुत बड़ी

लापरवाही की वजह से कोरोना से मरे शव का फेरबदल कर दिया गया।इस तरह की घटना

कोरोना काल का सबसे हैरान करने वाला मामला है । अस्पताल प्रबंधन द्वारा कोकर के

रहने वाले रिटायर टीचर की मौत के बाद जमशेदपुर के 60 वर्षीय बुजुर्ग के शव से बदल

लिया गया। इस तरह कोकर का शव जमशेदपुर चला गया। जमशेदपुर में किसी और के

शव पर जनाजे की तैयारी चल रही थी। इसी दौरान जब शव का चेहरा देखा गया तो शव

का फेरबदल कर दिया गया है। वहां पुरुष की शव के जगह महिला का शव देखा गया

जिससे देख लोग दंग रह गये।

क्या है मामला

इरबा के एस्क्लेपियस अस्पताल इरबा में जमशेदपुर के पुरुलिया रोड के समीप के रहने

वाले एक व्यक्ति की शुक्रवार देर रात इलाज के क्रम में मौत हो गयी। जिसके बाद प्रबंधक

व परिजनों के बीच काफी तू तू मै मैं भी हुआ। एस्क्लेपियस अस्पताल प्रबंधक ने परिजनों

को शव दिखाने से मना करने कर दिया। जिसके बाद परिजन शव को लेकर साकची

कब्रिस्तान पहुंचे और शव का चेहरा देखा तो उनके होश उड़ गए। शव पुरुष का ना होकर

किसी महिला का था। कोकर की रहने वाली एक रिटायर्ड टीचर अस्पताल में इलाज करा

रहे दूसरे महिला का ह्रदय मरीज की मौत हो गई। परिवार शव लेने एस्क्लेपियस

अस्पताल पहुंची, तो वहां महिला की जगह किसी दूसरे पुरुष का शव देखकर वे सन्न रह

गए। इसके बाद परिजन अस्पताल में ही हंगामा करने लगे।

इरबा के एस्क्लेपियस अस्पताल पहुंचे पुलिस अधिकारी

उधर, अस्पताल से महिला का शव गायब होने पर महिला के परिजनों ने एस्क्लेपियस

अस्पताल परिसर में ही हंगामा कर दिया। बाद में ओरमांझी पुलिस और हुटुप टीओपी के

प्रभारी जमादार मुण्डा मौके पर पहुँच औऱ मामले की जानकारी लिया हंगामा के बढ़ने की

संभावना पर हॉस्पिटल पूरी पुलिस छावनी में तब्दील हो गई। मौके सीओ शिव शंकर पांडे

भी पहूचे और परिजनों को समझाने की भरपूर कोशिश किया। कोकर के मरीज के

परिजनों को शनिवार को अस्पताल से फ़ोन आया और उनकी मौत की सूचना मिली। रांची

के कोकर का शव जमशेदपुर से देर रात तक नहीं आने से परिजन काफी चिंतित थे कोकर

के शव के परिजनों ने अस्पताल प्रबंधक पर इलाज के नाम पर तीन लाख रुपये ठगी का

आरोप लगाया है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अजब गजबMore posts in अजब गजब »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पूर्वी सिंहभूमMore posts in पूर्वी सिंहभूम »
More from महिलाMore posts in महिला »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from विवादMore posts in विवाद »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!