fbpx Press "Enter" to skip to content

अर्जुन मुंडा की पूजा में प्रसाद ग्रहण करने पहुंचे रघुवर दास







  • श्री मुंडा की काली पूजा काफी पुरानी
  • दूर-दराज से आते हैं लोग प्रसाद लेने
  • दोनों की भेंट से चर्चा का बाजार गर्म
  • भाजपा के दो दिग्गजों की भेंट से राजनीति गरमायी
पार्थो

जमशेदपुरः अर्जुन मुंडा की कालीपूजा का आयोजन काफी पहले से होता

आया है। खुद श्री मुंडा के लिए यह पूजा काफी महत्वपूर्ण होता है। लेकिन

राजनीति के केंद्र में होने की वजह से इस पूजा के मौके पर भी अनेक

गणमान्य लोग पूजा का प्रसाद ग्रहण करने यहां आते हैं। इस बार इसी क्रम

को आगे बढ़ाते हुए राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास भी वहां पहुंचे।

यूं तो यह शुद्ध तौर पर धार्मिक आयोजन में शामिल होने का कार्यक्रम भर

था। लेकिन इस भेंट की वजह से भाजपा के अंदर और बाहर की राजनीति

में फिर से गरमी आ गयी है।

मुख्यमंत्री रघुवर दास पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान केंद्रीय मंत्री अर्जुन

मुंडा के आवास पर आयोजित होने वाली कालीपूजा का प्रसाद ग्रहण

करने पहुंचे। इस मौके पर खुद श्री मुंडा और उनकी पत्नी श्रीमती मीरा

मुंडा ने उनका स्वागत किया। मौके पर भाजपा और अन्य दलों के भी

अनेक नेता और समर्थक पहले से ही मौजूद थे। इस प्रसाद ग्रहण के मौके

पर भी मुख्यमंत्री ने मीडिया को संबोधित करते हुए झारखंड की जनता

को काली पूजा, भाई दूज और छठ पर्व की ढेर सारी शुभकामनाएं देते

हुए कहा शक्ति की देवी मां काली की आराधना से हमें शक्ति मिलती है।

अर्जुन मुंडा के साथ बैठे और बढ़ गया सियासी तापमान

भाजपा के दोनों दिग्गज नेताओं ने एक साथ एक टेबल पर बैठकर ही

प्रसाद ग्रहण किया। इस बीच हल्की फुल्की बातें और पारिवारिक चर्चा

होती रही। इसके बावजूद दोनों नेताओं की इस मुलाकात से झारखंड

की राजनीति में अचानक ही तापमान बढ़ता हुआ नजर आ रहा है।

याद रहे कि इससे पूर्व पिछले पांच वर्षों से अर्जुन मुंडा स्पष्ट तौर पर

प्रदेश की राजनीति से दूरी बनाकर ही चलते रहे हैं। उन्होंने कई अवसरों

पर भाजपा कार्यकर्ताओं को यह स्पष्ट भी किया है कि अगर कोई

सरकार काम कर रही है तो उसके काम में दखलंदाजी के गलत नतीजा

निकलता है। इसलिए वह निजी तौर पर सरकार के काम-काज पर

कोई टीका टिप्पणी नहीं करते। लेकिन विधानसभा चुनाव करीब आने

के पूर्व इस धार्मिक आयोजन की मुलाकात को भी राजनीतिक तौर पर

महत्वपूर्ण समझा जा रहा है। इसकी एक खास वजह किसी पद पर

नहीं होने तथा वर्तमान में केंद्रीय मंत्री होने के बाद भी झारखंड भाजपा

के विधायकों पर अर्जुन मुंडा की पकड़ किसी भी अन्य नेता के मुकाबले

काफी अधिक है। इस वजह से इस प्रसाद ग्रहण समारोह को भावी

राजनीतिक चुनौती को मिलकर साधने के शुरुआत के तौर पर

लिया जा रहा है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.