fbpx Press "Enter" to skip to content

अप्रैल महीने में राज्यसभा चुनाव पर फिर भिड़ेंगे भाजपा और कांग्रेस

  • राज्यसभा के 51 सदस्यों का कार्यकाल अप्रैल में खत्म

  • भाजपा को 13 और कांग्रेस को 11 सीटें जीतने की उम्मीद

  • दोबारा आने क जुगाड़ में कुछ खेमा बदल भी होगी

रासबिहारी

नई दिल्लीः अप्रैल महीने में राज्यसभा के 51 सदस्यों का कार्यकाल समाप्त हो रहा है।

अप्रैल में होने वाले चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के साथ-साथ तृणमूल

कांग्रेस और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी को ज्यादा सीटें मिल सकती हैं। राज्यसभा में

भाजपा के पास फिलहाल बहुमत नहीं है। इस कारण भाजपा के लिए चुनाव बहुत मायने

रखते हैं। राज्यसभा में भाजपा के 82 सांसद हैं। भाजपा को चुनाव में 13 सीटें मिलने की

उम्मीद है। राज्यसभा के 245 सदस्यों में से कार्यकाल पूरा करने वाले 51 सदस्यों में

राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार और

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले, कांग्रेस नेता मोतीलाल वोरा, दिग्विजय सिंह, मधुसूदन

मिस्त्री, भाजपा के विजय गोयल और सत्यनारायण जटिया, द्रमुक के टी शिवा, जदयू से

कहकशां परवीन और अन्नाद्रमुक की विजला सत्यनाथ शामिल हैं।

राज्यसभा में बहुमत न होने के बावजूद भाजपा उच्च सदन में लाए कानूनों को पास

करवाने में सफल रही। बीजू जनता दल और वाईएसआरसीपी जैसे दलों का भाजपा को

समर्थन मिलता रहा है। ओडिशा में राज्यसभा की तीन सीटों में से बीजू जनता दल को दो

और भाजपा को एक सी मिलने की संभावना है। आंध्र प्रदेश की सभी चार सीटें वाईएसआर

कांग्रेस को मिलेंगी। भाजपा को हिमाचल और हरियाणा से एक-एक सीटें मिलने की

उम्मीद है। राज्यसभा में कांग्रेस के 46 सांसद हैं और उसे 10 सीटें मिलने की संभावना है।

कांग्रेस के 11 सदस्य अप्रैल में सेवानिवृत होंगे।

अप्रैल महीने के चुनाव से पहली सेवानिवृत्ति सूची जारी

राज्यसभा द्वारा जारी की गई आगामी सेवानिवृत्ति की सूची के अनुसार, महाराष्ट्र से

सात, तमिलनाडु से छह, बिहार और पश्चिम बंगाल से पांच, आंध्र प्रदेश और गुजरात से

चार-चार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना और ओडिशा से तीन-तीन, झारखंड और

छत्तीसगढ़ से दो-दो और असम, मणिपुर, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश से एक-एक सीटें

शामिल हैं।

तमिलनाडु में 6 सीटें खाली होंगी, जिसमें अन्नाद्रमुक और द्रमुक को 3-3 सीटें मिल

सकती है। राज्यसभा में अन्नाद्रमुक के 11 सांसद हैं। मध्य प्रदेश की तीन सीटों में से दो

पर कांग्रेस और एक पर भाजपा को बढ़त मिल सकती है। दिल्ली के भाजपा नेता विजय

गोयल राजस्थान के राज्यसभा सदस्य हैं और अगली बार उनका सांसद बनना कठिन लग

रहा है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from देशMore posts in देश »

One Comment

Leave a Reply

Open chat
Powered by