fbpx Press "Enter" to skip to content

अनुष्का ने दिया तीन बच्चों को जन्म, पहले भी बन चुकी है मां

  • बिरसा जैविक उद्यान ओरमांझी के बाघिन का नाम है अनुष्का
  • निदेशक ने बताया तीनों बच्चों सहित मां अनुष्का हैं स्वस्थ
  • उद्यान में बाघों की संख्या हुई 7, कर्मचारी हुए उत्साहित

ओरमांझी : अनुष्का, एक बाघिन ने बिरसा जैविक उद्यान ओरमांझी में शनिवार को तीन

बच्चों को जन्म दिया है। बिरसा जैविक उद्यान ओरमांझी में 18 अप्रैल का दिन बड़ी

खुशखबरी का दिन था जहां उद्यान की बाघिन अनुष्का ने तीन बच्चों (शावकों) को जन्म

दिया जिसमे दो मादा व 1 नर है अब जु में बाघों की संख्या 7 हो गया। उद्यान में तीन नये

महमान आने से उद्यान के कर्मचारियों में भी काफी उत्साह दिखाई दे रहा है। शनिवार को

जन्में बाघिन के तीनों बच्चे व मां स्वस्थ हालत में हैं। अनुष्का अपने बच्चों का अच्छा से

ख्याल रखते हुए दूध पिला रही हैं और आंखो से एक पल के लिए भी ओझल नहीं कर रही।

अनुष्का और मलिक है बच्चों के अभिभावक

मालूम हो कि 2018 के अप्रैल माह में भी अनुष्का पहली बार मां बनी थी। उस समय भी

अनुष्का ने तीन शावक को जन्म दिया था। किसी भी चिड़ियाघर में बाघों का प्रजनन बहुत

ही कठिनाई से होता है मगर बिरसा जैविक उद्यान ओरमांझी का प्राकृतिक वातावरण

बाघ के प्रजनन में काफी सहायक प्रतीत होता है। मादा अनुष्का और नर मलिक जो इन

तीन शावकों के माता-पिता हैं उन्हें 1 प्राणी प्रधान प्रधान योजना के तहत नेहरू

जूलोजिकल पार्क हैदराबाद से फरवरी 2016 को ओरमांझी जु लाया गया था इस समय

मलिक का उम्र 7 वर्ष तथा मादा अनुष्का कम 8 साल है ज्ञात हो कि बाघ का गर्भकाल

105+5 दिन लगभग साढ़े तीन महीना होता है। औसतन एक बाघिन दो से तीन शावक को

जन्म देती है जन्म के समय सावर का आंख बंद होता है शावक का आंख 8-12 दिन

लगभग दो सप्ताह में खुलता है तथा सिर्फ मां का ही दूध पीता है। एक माह बाद ही नए

जन्में बाघों का नाम विधिवत रखा जाएगा और लॉक डाउन की समाप्ति के बाद सैलानी

नए मेहमानों का दीदार कर पाएंगे। जिसे देखने के लिए सैलानियों की हुजूम उमड़ने के

संकेत भी है। 21 जुलाई को प्रबंधक ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इसकी सूचना दी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from रांचीMore posts in रांची »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!