fbpx Press "Enter" to skip to content

अनु मलिक पर चल रहा यौन शोषण का केस बंद हुआ

  • राष्ट्रीय महिला आयोग को नहीं मिले पर्याप्त सबूत

  • नोटिस के बाद भी हाजिर नहीं हुआ कोई शिकायतकर्ता

  • दोबारा साक्ष्य मिले तो केस फिर से प्रारंभ किया जाएगा

नईदिल्लीः अनु मलिक के खिलाफ चल रहा यौन शोषण का केस

फिलहाल बंद कर दिया गया है। इस मामले में सुबूतों के अभाव में

राष्ट्रीय महिला आयोग ने बंद किया है। अनु मलिक के खिलाफ यह

आरोप 2018 में शुरू हुए मीटू मूवमेंट के दौरान लगा था। इस दौर में

कई बड़े बॉलीवुड कलाकारों पर भी ऐसे ही यौन शोषण के आरोप लगे

थे। आरोप लगने की वजह से अनु मलिक को कई प्रमुख और लोकप्रिय

कार्यकर्मों से हटाया भी गया था। अनु पर सोना महापात्रा, श्वेता पंडित,

नेहा भसीन, केरालिसा मोन्टेरियो और डेनिका डिसूजा ने यौन शोषण

करने का आरोप लगाया था। इन आरोपों की जांच करते हुए राष्ट्रीय

महिला आयोग ने अनु के खिलाफ पर्याप्त सबूत न मिल पाने और

शिकायतकर्ता के सामने न के कारण केस बंद कर दिया गया है।

आयोग की बर्णाली सोम ने सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया प्राइवेट

लिमिटेड की माधुरी मल्होत्रा को एक पत्र लिखा, जिसमें कहा गया कि

राष्ट्रीय महिला आयोग ने मलिक के खिलाफ मामला बंद कर दिया है।

आयोग ने सोना मोहापात्रा से आरोपों के संबंध में दस्तावेज मांगे थे,

जिन्हें सोना आयोग को उपलब्ध नहीं करा पाईं।

अनु मलिक के खिलाफ सबूत मांगे गये थे

इस लैटर में सोना के लिए लिखा गया है कि -“आयोग ने इस मामले में

6 दिसंबर 2019 को आपकी प्रतिक्रिया प्राप्त कर ली है। उपरोक्त के

मद्देनजर, मुझे यह बताने के लिए निर्देशित किया गया है कि आयोग

ने शिकायतकर्ता से मांगे गए संचार / पर्याप्त सबूतों की कमी के कारण

मामला बंद कर दिया है।” राष्ट्रीय महिला आयोग की प्रमुख रेखा शर्मा

के अनुसार- हमने शिकायतकर्ता की मांग पर एक्शन लेते हुए हमने

अपनी ओर से उनसे संपर्क किया। शिकायतकर्ता ने कहा वह अभी

बाहर है जब भी लौटेगी तो हमसे मिलेगी। हमने करीब 45 दिन इंतजार

किया। साथ ही कुछ और दस्तावेज भी मांगे मगर उसके बाद उसकी

तरफ से कोई जवाब नहीं मिला। उन्होंने यह भी कहा कि उनके अलावा

और भी लोग हैं जिन्होंने अनु के खिलाफ शिकायत की है। तब हमने

उन्हें बताया कि उनमें से किसी ने भी अभी तक हमसे संपर्क नहीं

किया है। हालांकि यह केस हमेशा के लिए बंद नहीं हुआ है। यदि

शिकायतकर्ता सामने आता है या फिर अधिक सबूत या किसी भी तरह

के दस्तावेज जमा करता है, तो हम इस मामले की दोबारा से जांच कर

सकते हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply