fbpx Press "Enter" to skip to content

रांची शहर का भुइयां टोली भी मरीज मिलने से हुए सील

  • पॉजिटिव मरीज सेवा सदन हॉस्पिटल के एंबुलेंस का ड्राइवर
  • एक दर्जन से अधिक घरों को चिन्हित करके उसे सील किया है
  • जरूरत पड़ी, तो संपर्क में आये लोगों की भी जांच की जायेगी

रांची : रांची शहर का एक और इलाका कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गया है। राजधानी

के गाड़ीखाना स्थित भुइयां टोली इलाके को रांची जिला प्रशासन ने चारों तरफ से सील कर

दिया है। इलाके से कोरोना पॉजिटिव मरीज की कांटेक्ट हिस्ट्री मिलने के बाद प्रशासन ने

यह कार्रवाई की है। इलाके से लोगों की आवाजाही को पूरी तरह से बैन कर दिया गया है।

वहीं जिला प्रशासन ने यहां के करीब एक दर्जन से अधिक घरों को चिन्हित करके उसे सील

किया है।भुइयां टोली में जो कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है वह सेवा सदन हॉस्पिटल के

एंबुलेंस का ड्राइवर था।

एहतियातन इलाके को किया गया है सील

रांची एसडीओ लोकेश मिश्रा ने बताया है कि पहले कोरोना पॉजिटिव मरीज ने प्रशासन को

पहले यह बताया था कि वह कहीं और रहता है।लेकिन अब उसने अपना पता भुइयां टोली

बताया है जिसके बाद जिला प्रशासन ने एहतियात के तौर पर उसके घर और पूरे इलाके

को सील कर दिया गया है।साथ ही उसके संपर्क में आये कई घरों पर भी निगरानी रखी जा

रही है। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी, तो संपर्क में आये सभी लोगों के सैंपल लेकर जांच की

जायेगी।

रांची शहर सहित झारखंड में कोरोना की मौत रूकी

झारखंड में भले ही कोरोना के मरीज लगातार मिल रहे हों, लेकिन एक राहत वाली खबर

यह है कि यहां कोरोना से मरने वालों की दर राष्ट्रीय दर से कम है। देश में यह दर जहां

3.19 फीसद है, वहीं झारखंड में तीन फीसद से भी कम है। राहत की बात यह भी है कि

झारखंड में 18 अप्रैल के बाद कोरोना से किसी की भी मौत नहीं हुई है। वहीं 20 लोग

कोरोना के संक्रमण से मुक्त भी हुए हैं। झारखंड में कोरोना से अबतक तीन लोगों की जान

गई है। सबसे पहले नौ अप्रैल को गोमिया के एक बुजुर्ग की मौत हो गई थी।उसकी मृत्यु के

उसके पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आई थी। इसके बाद 12 अप्रैल को रांची के हिंदपीढ़ी के एक

शख्स की मृत्यु इससे हो गई। इस वायरस से तीसरी मौत 18 अप्रैल को रांची के बरियातू

निवासी पूर्व डीडीसी की गुरुग्राम स्थित एक अस्पताल में हो गई। हालांकि राज्य में एक

और मौत 21 अप्रैल को हिंदपीढ़ी की ही एक महिला की हुई, लेकिन मरने से पहले उसने

कोरोना को मात दे दी थी। चिकित्सकों के अनुसार उसकी मौत कोरोना के बजाए कार्डियक

अरेस्ट होने से हुई।

मरनेवाले सभी 51 वर्ष के ऊपर के, 70 वर्ष के संक्रमित महज चार

राज्य में कोरोना से जिन तीन लोगों की जान गई है, उनमें दो 51 से 70 वर्ष तथा एक 70

वर्ष के ऊपर के हैं। अच्छी बात यह है कि 70 वर्ष से अधिक उम्र के महज चार लोग इस

वायरस से संक्रमित हुए, जिनमें एक की मौत हुई। बाकी तीन चिकित्सारत हैं। विशेषज्ञों के

अनुसार रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण इस आयुवर्ग के लोगों में यह वायरस

और भी अधिक खतरनाक हो जाता है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!