Press "Enter" to skip to content

अनिल देशमुख को 14 दिन की न्यायिक हिरासत का आदेश




हाई प्रोफाइल मामला बना है यह मुंबई का
परमवीर सिंह उसके बाद से हो गये लापता
ईडी के अलावा सीबीआई भी कर रही जांच
ईडी ने मांगी थी नौ दिन के हिरासत

राष्ट्रीय खबर

मुंबई : अनिल देशमुख को मुंबई की विशेष पीएमएलए अदालत ने शनिवार को 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में भेजने का आदेश दिया।




प्रवर्तन निदेशालय ने जांच का हवाला देकर देशमुख की हिरासत और नौ दिन बढ़ाने की मांग की थी, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया। एजेंसी श्री देशमुख के खिलाफ धन शोधन मामले की जांच कर रही है।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने इसी साल अप्रैल में तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार और घूसखोरी के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की थी, जिसके आधार पर ईडी मामले की जांच कर रही है।

श्री देशमुख को दो नवंबर को मुंबई की एक अवकाशकालीन अदालत ने इस मामले में 06 नवंबर तक ईडी की हिरासत में भेज दिया था।

ईडी ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परम बीर सिंह द्वारा लगाए गए रिश्वत के आरोपों पर श्री देशमुख के खिलाफ मामला दर्ज किया था।

मामला दर्ज होने के बाद उन्हें गृह मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था। परम बीर सिंह ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सहायक निरीक्षक सचिन वाजे के जरिये दिसंबर 2020 और फरवरी 2021 के बीच कई ऑर्केस्ट्रा और बार मालिकों से जबरन लगभग 4.7 करोड़ वसूल किये थे।




ईडी ने दो नवंबर को अदालत में दावा किया था कि श्री देशमुख धन शोधन मामले में सीधे तौर पर शामिल थे।

ईडी ने सह आरोपी वाजे सहित दो और पुलिस अधिकारियों के बयान दर्ज किए हैं।

अनिल देशमुख पर जबरन वसूली का आरोप लगा है

अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह और विशेष लोक अभियोजक हितेन वेनेगाओकर ने न्यायालय को बताया कि श्री देशमुख ने दिल्ली की पेपर कंपनियों की मदद से इस रकम को अपने शिक्षा ट्रस्ट, श्री साईं शिक्षण संस्था को दान के रूप में दिलाया था।

दूसरी तरफ इन आरोपों के संबंध में महाराष्ट्र सरकार द्वारा जांच आयोग का गठन किये जाने के बाद अचानक से मुंबई के पूर्व पुलिस कमिशनर परमवीर सिंह ही लापता हो गये हैं।

हाल ही में उन्होंने अपने वकील के माध्यम से अदालत को यह सूचित किया है कि वह न तो जांच आयोग के सामने उपस्थित होना चाहते हैं और ना ही इस मामले के गवाहों से कोई पूछताछ करना चाहते हैं।

महाराष्ट्र पुलिस ने उनके गायब होने के बाद उनके खिलाफ भी लूक आउट नोटिस जारी किया है। दूसरी तरफ अनौपचारिक तौर पर यह चर्चा है कि वह गुप्त तरीके से इस देश से ही बाहर चले गये हैं।



More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from महाराष्ट्रMore posts in महाराष्ट्र »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: