fbpx Press "Enter" to skip to content

अनिल अग्रवाल ने आपात स्थिति में सरकार को दी 150 करोड़ की मदद

  • कोविड राहत हेतु गत वर्ष किया था 201 करोड़ रुपये का योगदान

  • वेदांता देश में बनायेगा एक हजार बेडों के अस्पतालों की श्रृंखला

  • 10 स्थानों पर अत्याधुनिक फील्ड अस्पतालों में क्रिटिकल केयर बेड

  • वेदांता की इकाइयों में 700 कोविड बेड को बढ़ाकर अब 1000 बेड का सहयोग

बोकारोः अनिल अग्रवाल ने अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को निभाते हुए केंद्र सरकार को

150 करोड़ रुपये की मदद का एलान किया है। उनकी कंपनी देश की खनिज, ऑयल और

गैस की प्रमुख निर्माता कंपनी वेदांता है। कंपनी के चैयरमेन अनिल अग्रवाल ने कोविड 19

की दूसरी लहर से राहत एवं बचाव हेतु देश में सहायता के लिए 150 करोड़ के योगदान की

घोषणा की है। पिछले वर्ष वेदांता समूह द्वारा 201 करोड़ रूपयों का सहयोग किया गया

था। भारत सरकार और राज्य सरकारों द्वारा किए जा रहे पुरजोर प्रयासों के सहयोग में,

अनिल अग्रवाल के वेदांता लिमिटेड देश के 10 शहरों में 1,000 क्रिटीकल केयर बेड की

व्यवस्था करेगा। ये बेड मान्याताप्राप्त और प्रतिष्ठित चिकित्सालयों के साथ मिल कर

बनाए जाएंगे। रखे जाएंगे, जो मान्यता प्राप्त और प्रतिष्ठित अस्पतालों से जुड़े होंगे।

कोविड केयर के लिए स्थापित प्रत्येक जगह पर 100 बेड होंगे जो कि वातानुकूलित एवं

बिजली की सुविधायुक्त होगें। क्रिटीकल केयर में 90 बेड ऑक्सीजन सपोर्ट एवं 10 बेड

वेंटिलेटर सपोर्ट सुविधायुक्त होगें। वेदांता के चैयरमेन, अनिल अग्रवाल ने इस पहल के

लिये कहा कि, मैं कोविड-19 की दूसरी लहर के प्रभाव और बहुमूल्य जीवन को खोने के बारे

में गहराई से चिंतित और दुखी हूं। वेदांता समूह महामारी से लड़ने की हमारी प्रतिबद्धता के

लिए 150 करोड़ रुपये के योगदान के साथ आगे आया हैं और हम इस कठिन परिस्थिति में

समुदाय और सरकार के साथ मजबूती से खड़े हैं। हमारा मानना है कि इस घातक वायरस

से प्रभावित लोगों के लिए यह अतिरिक्त बुनियादी व्यवस्थाओं को तुरंत स्थापित किया

जाएगा जिससे बहुत आवश्यक राहत मिल सकेगी।

अनिल अग्रवाल ने भावी योजनाओँ का ब्लू प्रिंट पेश किया

उन्होंने कहा कि वेदांता हमारे वीर डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों के लिए आवश्यक

चिकित्सा उपकरण भी प्रदान करेगा।हम इस संकट से उबरने में हर संभव प्रयास करते

रहेंगे। क्रिटिकल केयर बेड की अतिरिक्त क्षमता राजस्थान, ओडिशा, छत्तीसगढ़,

झारखंड, गोवा, कर्नाटक और दिल्ली एनसीआर राज्यों में बनाई जाएगी। कंपनी द्वारा

पहले चरण में 14 दिनों में प्राथमिक सुविधाओं और शेष सुविधाओं को 30 दिनों में प्रारंभ

कर दिया जाएगा। वेदांता द्वारा प्रांरभ की गयी ये सुविधाएं कम से कम 6 माह तक जारी

रहेगी। वेदांता स्थानीय स्तर पर सरकारी निकायों और प्रशासन के साथ मिलकर काम कर

रहा है ताकि जरूरतमंद लोगों को चिकित्सा सुविधा और देखभाल उपलब्ध कराई जा सके।

कंपनी वर्तमान में अपने व्यावसायिक स्थानों पर कोविड के रोगियों के लिए लगभग 700

बेड का सहयोग कर रही है जिसे जल्द ही बढ़ाकर 1,000 कर दिया जाएगा। इस बीच,

हिंदुस्तान जिंक, ईएसएल और सेसा गोवा आयरन ओर बिजनेस ने वेदांता केयर पहल के

तहत कोविड -19 रोगियों को ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने के लिए कदम बढ़ाया है।

हिन्दुस्तान जिंक वर्तमान में प्रति दिन 5 टन ऑक्सीजन की (100 प्रतिशत लिक्विड

ऑक्सीजन क्षमता) की आपूर्ति कर रहा है जो चिकित्सा उपचार के लिए इस्तेमाल किया

जा सकता है और इसे 2-3टन बढ़ाने की प्रक्रिया जारी है। सेसा गोवा आयरन ओर बिजनेस

गोवा राज्य सरकार और अस्पतालों को प्रतिदिन 3 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की

आपूर्ति कर रहा है, जबकि वेदांता समूह की स्टील निर्माता कंपनी ईएसएल ने लिक्विड

मेडिकल आक्सीजन के लिए बोकारो के पास अपना प्लांट पंजीकृत किया है जिससे 10टन

प्रतिदिन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा सकेगी।

स्टरलाइट कॉपर से भी अब ऑक्सीजन की आपूर्ति होगी

स्टरलाइट कॉपर को अपने तूतीकोरिन संयंत्र से ऑक्सीजन की आपूर्ति करने के लिए

सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी मिल गई है। स्टरलाइट कॉपर के ऑक्सीजन प्लांट में प्रतिदिन

1,000 टन ऑक्सीजन का उत्पादन करने की क्षमता है। वेदांता हमारे कर्मचारियों और

उनके परिवारों के लिए टीकाकरण हेतु टीके की उपलब्धता के लिये उत्पादकों से संपर्क में

है। अब तक 5,000 से अधिक कर्मचारियों और परिवार के सदस्यों का टीकाकरण किया जा

चुका है और हम आने वाले दिनों में पूरे वेदांता परिवार और हमारे व्यापारिक साझेदारों को

शामिल करेगें। कंपनी ने राजस्थान, ओडिशा, छत्तीसगढ़, झारखंड, कर्नाटक और

उत्तरप्रदेश में डॉक्टर ऑन कॉल की सुविधा के साथ नंद घर समुदायों के लिए एक

टेलीमेडिसिन कार्यक्रम शुरू किया है। सभी कर्मचारियों और उनके परिवारों को चिकित्सा

सहायता प्रदान करने के लिए अपोलो हाॅस्पीटल के साथ एक अनवरत समर्पित हेल्पलाइन

भी स्थापित की है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from व्यापारMore posts in व्यापार »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: