fbpx Press "Enter" to skip to content

अमड़ापाड़ा में 50 लाख रंगदारी का मुख्य आरोपी समेत तीन गिरफ्तार

पाकुड़:  अमड़ापाड़ा में पुल निर्माण कार्य में जुटे मुंशी के अपहरण में

शामिल मुख्य आरोपी समेत दो अन्य को सोमवार को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने हथियार के साथ मुख्य आरोपी गोड्डा से जबकि अन्य दो आरोपियों

की गिरफ्तारी पाकड़ से की गई है। साथ ही मामले में अन्य आरोपियों की

गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी अभियान चला रही है।

अपराधियों ने तीन जनवरी को मुंशी का अपहरण किया था और उसी के

मोबाइल से 50 लाख रुपए की रंगदारी की मांग की थी। बाद में पुलिस की

कार्रवाई के बाद अपराधियों ने सात जनवरी को मुंशी को गोड्डा के जंगल

में छोड़ दिया था। इस मामले में पुलिस ने तीन अपराधी समेत चार मोबाइल,

एक मैजिक भी बरामद किया है। इस संबंध में पाकुड़ एसपी राजीव रंजन ने

प्रेसवार्ता कर जानकारी दी।

उधर, गोड्डा के एसपी शैलेंद्र वर्णवाल के मुताबिक अमड़ापाड़ा के मुंशी के

अपहरण में शामिल मुख्य आरोपी को गोड्डा के सुंदरपहाड़ी से एक अन्य

के साथ गिरफ्तार किया गया। मुख्य आरोपी व उसके साथी के पास से

पुलिस ने एक देशी राइफल, चार कट्टा, 13 गोली व दो खोखा बरामद किया

गया है।

अमड़ापाड़ा के कार्यस्थल से मुंशी का अपहरण हुआ था

पाकुड़िया के राजदाहा निवासी मुंशी रामनरेश भगत को अपराधियों ने तीन

जनवरी की रात 11 बजे बास्को नाला में पुल निर्माण कार्य के कैंप से किडनैप

कर लिया था। अपहरण के दौरान घटनास्थल पर मौजूद कर्मचारियों ने

बताया था कि अपराधियों ने शोर मचाने पर गंभीर परिणाम भुगतने की

धमकी दी थी। उधर, इस बाबत ठेकेदार नारायण भगत ने पांच जनवरी

को अमड़ापाड़ा थाना में मामला दर्ज कराया था। शिकायत मिलने के बाद

एसपी राजीव रंजन के निर्देश पर मुंशी के कुशलतापूर्वक रिहाई के लिए

पुलिस जांच पड़ताल व छापेमारी अभियान में जुट गई थी। इसके बाद

सात जनवरी को अपराधियों ने मुंशी को गोड्डा के पोड़ैयाहाट थाना क्षेत्र

के कमराडोल जंगल के पास छोड़ दिया था। एसपी ने बताया था कि अंधेरा

व जंगल का फायदा उठाकर अपराधी मुंशी को छोड़ भाग निकले थे।

बता दें कि बास्को नाला पर ग्रामीण विकास विभाग विशेष प्रमंडल से 50

लाख की लागत से पुल का निर्माण कराया जा रहा है। इस मामले की जांच

पाकुड़ एसपी राजीव रंजन के नेतृत्व में किया गया। जांच के दौरान मामले

में पांच अपराधियों की संलिप्तता पाई गई जिनमें बैजल टुडू और स्टीफन

हेम्ब्रम को गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि वकील मुर्मू, रमेश मुर्मू,

फ्रांसिस मुर्मू, जेकब मुर्मू (बैजल का ड्राइवर), रामपतरस मरांडी के साथ

एक अन्य अपराधी व एक अज्ञात को भी चिन्हित किया गया है।

अन्य आरोपियों के बारे में भी जानकारी मिल चुकी है

सभी आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। गिरफ्तार बैजल

टुडू ने अपने स्वीकारोक्ति बयान में बताया कि घटना को अंजाम देने के

लिए गोड्डा के सुंदर पहाड़ी निवासी रामपतरस मरांडी ने हथियार के साथ

अन्य अपराधियों को अमड़ापाड़ा के इस बास्को नाला पुल निर्माण के एवज

में रंगदारी के मांग के लिएबुलाया था। स्टीफन हेम्ब्रम ने शराब का इंतजाम

किया था। सभी ने शराब पी और फिर रामपतरस मरांडी और उसके साथ

आए अपराधियों ने मुंशी का अपहरण कर लिया। चूंकि हमलोग स्थानीय

थे, इसलिए पहचान के डर से पीछे थे औरचेहरे पर कपड़ा लगाया था। मुंशी

को लेकर रामपतरस और उसका साथ बाइक पर लेकर गया और फिर पीछे

से हम सभी टाटा मैजिक से गोड्डा जले गए जहां मुंशी को रखा गया और

उसी के मोबाइल से 50 लाख रुपए की डिमांड की गई। इसके बाद पुलिस

के घिरने के चलते मुंशी को वहां छोड़कर भाग निकले।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पाकुड़More posts in पाकुड़ »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!