fbpx Press "Enter" to skip to content

अमिताभ बच्चन फिर सोशल मीडिया में छाये कोरोना की अपील से

नयी दिल्लीः अमिताभ बच्चन फिर से यह साबित करने में कामयाब रहे कि फिल्मी पर्दे के

अलावा सोशल मीडिया में भी उनकी फैन फॉलोइंग जबर्दस्त है। इस बार उन्होंने लीक से

हटकर देश की खास स्वास्थ्य चुनौती के बारे में लोगों को आगाह करते हुए अपनी अलग

पहचान बनाने में कामयाबी पायी है। सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने देश में

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुये एक कविता के जरिये लोगों से सावधान रहने

की अपील की है। श्री बच्चन ने गुरुवार रात को अपने टविटर हैंडल से एक वीडियो साझा

किया जिसमें वह अवधी भाषा में कविता के जरिये कोरोना से एहतियात बरतने के लिये

संदेश दे रहे हैं। अमिताभ बच्चन ने कविता में कहा,

‘‘बहुतेरे इलाज बतावैं, जन जनमानस सब।

केकर सुनैं केकर नाहीं कौन बाताई ई सब।

क्येऊ कहेस कलौंजी पीसौ, केऊ आंवला रस।

केऊ कहेस घर मां बैठओ हिलो न टस से मस।

ईर कहिन औ बीर कहिन कि अइसा कुछ भी करौ ना।

बिन साबुन के हाथ धोइ के, केऊ के भैया छुअव ना।

हम कहा चलौ हमहू कर देत हैं जैसन बोलैं सब।

आवै देव कोरोना फिरौना ठेंगवा देखाउब तब।’’

गौरतलब है कि कर्नाटक के कलबुर्गी में कोरोना वायरस के संक्रमित एक बुजुर्ग की मौत के

बाद गुरुवार को देश में इस संक्रमण से मौत का पहला मामला सामने आया है। देश में

फिलहाल कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 73 है जबकि विश्व में इस वायरस से

अबतक 4600 से अधिक लोगों की मौत हो गयी है।

अमिताभ बच्चन फिर से हरिवंश राय बच्चन की शैली में

इस कविता को जिस शैली में लिखा गया है उस शैली की कालजयी रचना उनके पिता और

प्रसिद्ध कवि स्वर्गीय हरिवंश राय बच्चन की है। उनकी ठीक इसी शैली की एक कविता को

अमिताभ बच्चन ने अपने स्वर में गाया भी है। इस वजह से कोरोना के आतंक के बीच

अमिताभ बच्चन फिर से संदेश देते हुए भी सोशल मीडिया पर काफी पसंद किये जा रहे हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

  1. […] अमिताभ बच्चन फिर सोशल मीडिया में छाये … नयी दिल्लीः अमिताभ बच्चन फिर से यह साबित करने में कामयाब रहे कि फिल्मी पर्दे के अलावा सोशल मीडिया में भी … […]

  2. […] अमिताभ बच्चन फिर सोशल मीडिया में छाये … नयी दिल्लीः अमिताभ बच्चन फिर से यह साबित करने में कामयाब रहे कि फिल्मी पर्दे … […]

Leave a Reply

Open chat
Powered by