fbpx Press "Enter" to skip to content

अमित शाह के व्यस्त होने से झारखंड का टिकट का फैसला लटका

  • भाजपा अध्यक्ष महाराष्ट्र की गुत्थी सुलझाने में व्यस्त
  • अब छह लोगों का पैनल तैयार करने का निर्देश
  • दागदार चेहरों से बचना चाहती है भाजपा
  • मुख्यमंत्री के चेहरा पर नहीं बनी सहमति
  • सर्वेक्षण की रिपोर्ट अमित शाह के टेबल पर
संवाददाता

रांचीः अमित शाह के व्यस्त होने की वजह से झारखंड भाजपा के विधायकों

पर अंतिम निर्णय नहीं हो पाया है। इस मुद्दे पर सभी विषयों और पैनल में दर्ज

नामों पर चर्चा होने के बाद केंद्रीय नेता इस पैनल से पूरी तरह संतुष्ट नहीं है।

इससे साफ हो गया है कि वर्तमान विधायकों में से कई लोगों के नाम कटना

लगभग तय है। वैसे अंदरखाने की खबर है कि तीन तीन नामों के पैनल पर भी

दिल्ली के नेता संतुष्ट नहीं है। इसलिए वहां से नये सिरे से छह छह लोगों का

नाम हर सीट के लिए भेजने के निर्देश जारी हो चुके हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेता

ओम माथुर के यहां बैठक होने के बाद भी कई मुद्दों पर अब तक कोई ठोस

नतीजा नहीं निकल पाया है। इस बीच जो कुछ स्पष्ट हो रहा है, उसके

मुताबिक महाराष्ट्र के घटनाक्रमों की वजह से झारखंड में भाजपा फूंक

फूंककर कदम रखना चाहती है।

खास तौर पर पार्टी के वर्तमान अथवा पार्टी में हाल में शामिल होने वाले

नेताओं को टिकट देने के पहले उनके चाल चरित्र का विश्लेषण करने के बाद

ही कोई फैसला लिया जाएगा। सभी बड़े नेता इस विषय पर महाराष्ट्र के सबक

को याद रखना चाह रहे हैं। वहां भी पार्टी ने जीत की संभावना को देखते हुए

टिकट का आवंटन किया था। उसके नतीजे अच्छे नहीं रहे हैं।

खबर है कि इस क्रम में पार्टी के विधायकों से भी राय ली गयी है। सहयोगी दल

आजसू से भी इस बारे में जानकारी ली जा रही है। मुख्यमंत्री का चेहरा सामने

रखकर चुनाव लड़ा जाए अथवा नहीं, यह सवाल भी दिल्ली की बैठक में उठा

था। लेकिन इस मुद्दे पर मतभेद होने की वजह से कोई ठोस नतीजा नहीं

निकल पाया है।

अमित शाह के पास है सर्वेक्षण की अलग रिपोर्ट

सूत्रों की मानें तो पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने इस बारे में अलग से एक निजी

एजेंसी से भी चुनाव सर्वेक्षण कराया है। इस सर्वेक्षण की रिपोर्ट अमित शाह

तक पहुंच चुकी है। उस रिपोर्ट के अध्ययन के आधार पर ही आगे टिकट

आवंटन का फैसला लिया जा सकता है। लेकिन महाराष्ट्र की परेशानी से

मुक्त होने के बाद ही अमित शाह इस बारे में केंद्रीय नेताओं से कोई राय

मशविरा करेंगे।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!