fbpx Press "Enter" to skip to content

अपनी रक्षापंक्ति मजबूत करने के साथ साथ नेपाल पर भी नजर

  • चीन की सीमा पर भारत अभी भारतीय सेना तैनात रहेगी

विशेष प्रतिनिधि

नईदिल्लीः अपनी रक्षापंक्ति मजबूत करने के साथ चीनी सीमा पर अभी भारत की तरफ

से किसी किस्म की कोई ढील नहीं दी जाएगी। रक्षा विशेषज्ञों ने सेना की तैयारियों के

आधार पर यह अनुमान लगाया है कि चीनी सेना के दांव पेंच को समझते हुए ही भारतीय

सेना अभी किसी रियायत के मूड में नहीं है। वह कारगिल से लेकर म्यांमार सीमा तक

चीनी सीमा पर निरंतर सतर्कता बनाये रखना चाहती है। गलवान के बाद भी कुछ खास

इलाकों में अब भी चीन की सेना अपनी पूर्व स्थिति में वापस नहीं लौटी है। इस वजह से

भारतीय सेना को भी अपनी तैनाती बढ़ानी पड़ी है। 15 जून के खूनी संघर्ष के बाद अब

भारत अपनी तरफ से किसी भी इलाके में असावधान होना ही नहीं चाहता।

अपनी रक्षापंक्ति मजबूत करने के साथ गतिविधियों पर भी नजर 

इस बीच रक्षा विशेषज्ञों ने इस बात को भी स्पष्ट कर दिया है कि भारत को अब चीन के

नेपाल की सीमा के पास हो रही गतिविधियों पर भी नजर रखने की जरूरत आ पड़ी है।

भारतीय सीमा के करीब उत्तराखंड में लिपुलेख के काफी करीब चीनी सेना की

गतिविधियां बढ़ी है। लिपुलेख वह इलाका है, जहां तक भारत ने अपनी सड़क का निर्माण

कर चीन की सीमा के काफी करीब तक पहुंचने का काम किया है। इससे कैलाश

मानसरोवर की यात्रा की अवधि भी कम होगी। लेकिन इस घटना के बाद अचानक ही

नेपाल ने लिपुलेख के कुछ इलाकों पर अपना दावा किया है। अब लिपुलेख के करीब चीनी

सैनिकों की गतिविधियों की वजह से भारत को अपनी किलेबंदी मजबूत रखने के साथ

साथ नेपाल के इलाकों में भी चीन की गतिविधियों को देखना पड़ रह है। उधर पूर्वोत्तर

भारत में भी अरुणाचल प्रदेश के आस पास के इलाकों में चीनी सेना की गतिविधियां बढ़ी

हैं लेकिन इन इलाकों में भारतीय सेना पहले से ही सतर्क और बेहतर स्थिति में है।

वैसे कूटनीतिक जानकार मानते हैं कि नेपाल की सीमा के पास चीन की सेना की

गतिविधियों को लेकर अमेरिका और रुस भी सतर्क हैं। वे भी इस बात को गंभीरता से

परख रहे हैं कि कहीं मौके का फायदा उठाकर चीन नेपाल की सीमा पर ही कब्जा न कर लें

क्योंकि वहां के प्रधानमंत्री पर चीन का जादू सर चढ़कर बोल रहा है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from रक्षाMore posts in रक्षा »

One Comment

Leave a Reply