fbpx Press "Enter" to skip to content

अजमेर में अब पांच महीने बाद खुलने लगे सारे धार्मिक स्थल

  • हर धार्मिक स्थल पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन

  • अजमेर में दरगाह एवं पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर खुले

  • भारी पुलिस बल की मौजूदगी में पहली आरती

  • ख्वाजा गरीब नवाज पर भी अकीदतमंद पहुंचे

अजमेर: अजमेर में अब करीब पांच महीने से ज्यादा समय से बंद धार्मिक स्थल पुष्कर के

विश्व विख्यात जगतपिता ब्रह्मा मंदिर तथा ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह को

आज आम लोगों के लिए खोल दिया गया। सुबह से ही कोरोना की सरकारी गाइडलाइन का

से पालन किया जा रहा है। ब्रह्मा मंदिर में भारी पुलिस जाब्ते के बीच सुबह पांच बजे

उपखंड अधिकारी दिलीप सिंह राठौड़ की मौजूदगी में मंगला आरती की गई और उसके

बाद से सोशल डिस्टेसिंग की पालना के बीच श्रद्धालुओं का प्रवेश शुरू हो गया। ब्रह्मा मंदिर

पर गोले बनाकर पर्याप्त दूरी के साथ एक एक कर श्रद्धालुओं को प्रवेश दिया जा रहा है और

वे ब्रह्माजी के दर्शन कर पा रहे हैं। इसी तरह सूफी संत ख्वाजा गरीब नवाज की बारगाह

भी सुबह खोल दी गई। दरगाह के आस्ताने पर भी अकीदतमंदों के बढ़ी संख्या में

पंक्तिबद्ध हाजिरी लगाकर जियारत करने का सिलसिला शुरू हो गया। दरगाह शरीफ में

अकीदतमंदों को निजाम गेट से प्रवेश करा बुलंद दरवाजे के नीचे सोनचिराग होते हुए

संदली मस्जिद के सामने से होकर आस्ताना शरीफ तक भेजा जा रहा है। परवरदिगार की

बारगाह में अकीदतमंद दुआ कर स्वयं को खुश नसीब महसूस कर रहे हैं।

अजमेर में अब सभी धार्मिक स्थलों पर अतिरिक्त सावधानी

दरगाह कमेटी, दोनों अंजुमनों से जुड़े खादिम तथा पुलिस प्रशासन व्यवस्थाओं को अंजाम

देने में जुटे हैं। उल्लेखनीय है कि कोरोना की सरकारी गाइडलाइन के तहत जहां दरगाह

शरीफ में चादर एवं फूल पेश करने की इजाजत नहीं है। वहीं ब्रह्मा मंदिर में भी माला,

प्रसाद ले जाने पर प्रतिबंध है तथा घंटियों के साथ किसी भी वस्तु को हाथ लगाने से मना

किया जा रहा है। कोरोना संक्रमण के जारी रहने की वजह से ही इतनी सावधानी बरती जा

रही है। किसी तरीके से फिर से इलाके में संक्रमण का आंकडा ऊपर जाने की  हालत में

अजमेर में अब फिर से एक बार और भी लॉक डाउन लगाने की नौबत आ सकती है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from इतिहासMore posts in इतिहास »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजस्थानMore posts in राजस्थान »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!