Press "Enter" to skip to content

राजधानी रांची में शरण लेकर बड़े आराम से जीवन बिता रहे नक्सली, सुरक्षाबलों के जवान जंगलों में चला रहे सर्च अभियान

रांची : राजधानी रांची में शरण लेकर लॉकडाउन का आनंद लेते हुए बड़े आराम से नक्सली

अपना जीवन बिता रहे हैं। नक्सलियों के धड़पकड़ के लिए पुलिस और सुरक्षाबलों के

जवान जंगलों में सर्च अभियान चला रही है। ये लोग अपनी पहचान छिपाकर रांची के

अलग-अलग इलाकों में रह रहे हैं। कुछ नक्सली मजदूरी की आड़ ले रहे हैं, तो किसी ने

अपना नाम बदल लिया है।नक्सली जंगलों में रह कर पुलिस को तो चुनौती दे ही रहे हैं।

साथ ही साथ अब शहर में भी रहकर अपना संगठन चला रहे हैं। रांची के बाहरी इलाके नाम

बदलकर कई नक्सली और नक्सली समर्थक रह रहे हैं। पिछले एक वर्ष के दौरान राजधानी

रांची से अलग अलग संगठन के दर्जनों नक्सली गिरफ्तार हुए हैं।खूंटी, सिमडेगा, पलामू,

चतरा, लातेहार, सरायकेला-खरसावां, चक्रधरपुर, लोहरदगा समेत अन्य जिलों के

नक्सलियों ने रांची को अपना ठिकाना बनाया है। यह नक्सली और नक्सली समर्थक जहां

व्यापारियों और ठेकेदारों से लेवी वसूलने का काम करते हैं, तो साथ-साथ अपने नक्सली

संगठनों को पुलिस की सभी जारी गतिविधियों की भी जानकारी देते रहते हैं।

राजधानी के बाहरी क्षेत्रों को नक्सलियों ने बनाया ठिकाना

जानकारी के मुताबिक, रांची के आसपास के विभिन्न इलाकों में नक्सलियों व प्रतिबंधित

संगठन पीएलएफआइ, टीपीसी और माओवादी संगठन के नक्सलियों ने अपना ठिकाना

बनाया है। ये रांची बाहरी इलाके अनगड़ा, खलारी, बुढ़मू, चान्हो, मांडर, बेड़ो, इटकी, बुंडू,

तमाड़, सोनाहातू, नामकुम का कुछ इलाका, हटिया, तुपुदाना, रातू के कमड़े, रातू,

ओरमांझी, सिल्ली में नाम और पेशा बदल कर नक्सली रह रहे हैं।जानकारी के अनुसार

राजधानी रांची के बाहरी इलाके में नाम बदलकर रह रहे नक्सली और नक्सली समर्थक

जहां व्यापारियों और ठेकेदारों से लेवी वसूलने का काम करते हैं। तो वहीं अपने नक्सली

संगठनों को पुलिस की गतिविधियों की भी जानकारी देते रहते हैं। नक्सली और उनके

समर्थक अपनी पहचान बदलकर किराए के मकान में रहते हैं और वह दिनभर पुलिस की

गतिविधियों की जानकारी हासिल कर, फिर फोन पर एरिया कमांडर को जानकारी देते हैं।

एक दर्जन नक्सली राजधानी से हुए गिरफ्तार

पिछले वर्ष से अबतक एक दर्जन से अधिक नक्सलियों को राजधानी से गिरफ्तार किया

गया है, जो कई कांडों में शामिल है। जिसका घटनाक्रम कुछ इस प्रकार से दर्शाया गया है :

2 मई, 2020 : झारखंड एसटीएफ ने अरगोड़ा इलाके में छिपकर रह रहे टीपीसी के सब

जोनल कमेटी सदस्य सौरभ गंझू उर्फ दिनेश गंझू को गिरफ्तार किया है। दिनेश चतरा

जिले के टंडवा थाना क्षेत्र के गोंदा का रहने वाला था। जिसके खिलाफ कई कांड दर्ज है।

31 जनवरी, 2020 : टीएसपीसी का सबजोनल कमांडर निशांत को पुलिस ने कार्रवाई करते

हुए रांची के रातू से गिरफ्तार किया। जिसके खिलाफ विभिन्न थानों में कई कांड दर्ज है।

11 फरवरी, 2020 : टीपीसी उग्रवादी संगठन का सक्रिया एरिया कमांडर राजेंद्र कुमार

भुईया उर्फ बादल जी को पलामू पुलिस ने गुप्त सूचना पर रातू, रांची से गिरफ्तार किया।

30 अक्टूबर, 2019 : खूंटी पुलिस ने रांची के चुटिया इलाके में छापेमारी कर कुख्यात

नक्सली हरिराम साहू को गिरफ्तार किया है। हरिराम साहू के पास पुलिस ने दो पिस्टल,

कारतूस के साथ कई विस्फोटक बरामद किया था। जिसकी पुलिस को कब से तलाश थी।

21 अक्टूबर, 2019 : तुपुदाना स्थित भारत सेवा आश्रम में खुद को अनाथ बताकर रह रहे

माओवादी लालजीत गंझू को गुप्त सूचना के पर केरेडारी पुलिस ने गिरफ्तार किया।

14 सितंबर, 2019 : तुपुदाना और टाटीसिल्वे इलाके में छापामारी कर भारी मात्रा में पुलिस

ने विस्फोटक बरामद किया और अज्ञात नक्सलियों की मिलीभगत का भी खुलासा किया।

29 अगस्त, 2019 : तुपुदाना पुलिस ने पुराना हुलहुंडू स्थित एक क्रशर के पास किराये के

मकान में मजदूर बनकर रहरहे उग्रवादी सदानंद सिंह उर्फ सदाई मुंडा को गिरफ्तार किया।

7 अगस्त, 2019 : तुपुदाना से एक लाख के इनामी एरिया कमांडर सहित तीन उग्रवादियों

जो पीएलएफआइ से संबंधित, उन्हें पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर गिरफ्तार किया।

27 जुलाई, 2019 : तुपुदाना ओपी क्षेत्र से लेवी लेने आये चार उग्रवादियों प्रेम सिंह, समीर

धनवार, सनातन होरो और सुरेश मुंडा को पुलिस ने धर दबोचा और जेल भेज दिया।

25 फरवरी, 2019 : पंडरा ओपी क्षेत्र के चटकपुर से 10 लाख रुपये के इनामी नक्सली

संतोष यादव उर्फ टाइगर को पुलिस ने उसके घर से गिरफ्तार किया। मुठभेड़ में घायल

होने के बाद वह अपने घर में छिपकर अपना इलाज करवा रहा था, जो पकड़ा गया।

7 फरवरी, 2019 : तुपुदाना पुलिस ने हजाम गांव के पास पीएलएफआइ के पूर्व एरिया

कमांडर और अन्य अपराधियों को हथियार की खरीद-बिक्री करते हुए रांची पुलिस ने

गिरफ्तार किया, जिसके खिलाफ विभिन्न थानों में कई कांडों पर केस दर्ज है।

Spread the love
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from आतंकवादMore posts in आतंकवाद »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from खूंटीMore posts in खूंटी »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रक्षाMore posts in रक्षा »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from विवादMore posts in विवाद »

2 Comments

... ... ...
error: Content is protected !!