fbpx Press "Enter" to skip to content

उत्तर पूर्व की सारी सीमाएं सील हर परिवहन पर लगायी रोक

  • सीमा क्षेत्र के हाट बाजार पर भी रोक

  • बस और रेल सेवाएं भी स्थगित की गयी

  • 18 अंतर्राष्ट्रीय चौकियों को बंद किया गया

  • कोरोना वायरस को फैलने से रोकने की पहल

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: उत्तर पूर्व की सारी सीमाएं अब कोरोना के प्रभाव को रोकने के लिए फिलहाल

बंद कर दी गयी हैं। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच भारत सरकार ने चेकपोस्ट के

जरिए बांग्लादेश, नेपाल, भुटान, म्यांमार सीमा से आवागमन पर रोक लगाने का फैसला

लिया है। भारत ने शनिवार की सुबह से बांग्लादेश की सीमा से क्रॉस बॉर्डर पैसेंजर बस और

ट्रेनों की सेवाओं को 15 अप्रैल तक निलंबित कर दिया है। साथ ही कोरोना वायरस के प्रसार

को रोकने के लिए एहतियातन 18 अंतरराष्ट्रीय सीमा चौकियों से आवाजाही को निलंबित

करने का फैसला लिया है। अधिकारियों ने बताया कि केंद्र ने कुल 37 अंतरराष्ट्रीय सीमा

चौकियों में से केवल 19 पर आवाजाही जारी रखने का फैसला किया है और भारत-

बांग्लादेश के बीच ट्रेन और बसों का परिचालन 15 अप्रैल तक या उससे पहले कोई फैसला

होने तक स्थगित रखने का फैसला किया है। बांग्लादेश, नेपाल, भुटान और म्यांमार की

सीमा से जुड़े 18 इमिग्रेशन चेकपोस्ट को 15 मार्च से बंद कर करने का ऐलान किया गया

है। दूसरी ओर, पूर्वोत्तर राज्य असम, मेघालय, त्रिपुरा ,मिजोरम और मणिपुर ने कोरोना

वायरस के खतरे को ध्यान में रखते राज्य से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा को सील करने का

फैसला किया है। मिजोरम की 510 किमी लंबी सीमा म्यांमार से लगी है और 318 किमी

लंबी सीमा बांग्लादेश से. मणिपुर की सीमा म्यांमार से लगती है। ध्यान रहे कि सिक्किम

औऱ अरुणाचल प्रदेश पहले ही विदेशी पर्यटकों पर पाबंदी लगा चुके हैं। दूसरी ओर,

मेघालय औऱ त्रिपुरा में सीमा पर लगने वाले बाजारों को भी कुछ समय के लिए बंद करने

का फैसला किया गया है। इन दोनों राज्यों में बांग्लादेश सीमा पर दो-दो ऐसे बाजार लगते

हैं, जिन पर इन इलाकों की बड़ी आबादी आश्रित है।

उत्तर पूर्व की सीमा काफी विस्तृत हैं

सीमा सील होने की वजह से मणिपुर और म्यांमार के बीच सीमा व्यापार भी ठप हो गया

है। असम, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम में बांग्लादेश से लगी 1,880 किमी लंबी

अंतरराष्ट्रीय सीमा है। इसी तरह मिजोरम, मणिपुर, नागालैंड और अरुणाचल प्रदेश की

1,640 किमी लंबी सीमा म्यांमार से लगी है और इस सीमा पर कंटीले तारों की बाड़ भी नहीं

है। मिजोरम ने तो कोरोना के डर से म्यामांर और बांग्लादेश से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा के

अलावा असम, मणिपुर और त्रिपुरा से लगी सीमा को भी सील कर दिया है। हालांकि सीमा

पर कुछ जांच चौकियां खुली रहेंगी। लेकिन वहां से आवाजाही नियंत्रित रहेगी. गृह विभाग

की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि आपातकालीन स्थिति के लिए कुछ जांच

चौकियां खुली रहेंगी लेकिन आम लोगों के लिए सीमा पूरी तरह सील कर दी गई है।

उत्तर पूर्व की सीमा पर कोरोना के खतरे को ध्यान में रखते हुए सरकार ने त्रिपुरा और

मेघालय से लगी बांग्लादेश सीमा पर लगने वाले बार्डर हाट यानी सीमा बाजार को भी

सामयिक तौर पर बंद रखने का फैसला किया है। इन दोनों राज्यों में फिलहाल ऐसे चार

बाजार चलते हैं। यह बाजार सीमावर्ती इलाकों में रहने वाले लोगों की आजीविका के प्रमुख

साधन हैं। इनमें मुख्य रूप से कृषि और घरेलू उत्पादों की खरीद-बिक्री होती है । इससे

पहले बीते सप्ताह इलाके के दो अन्य राज्यों—सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश ने भी

विदेशियों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी थी। अरुणाचल प्रदेश की सीमाएं चीन, भूटान और

म्यांमार से मिलती हैं जबकि सिक्किम की सीमा भी नेपाल, भूटान और चीन से लगी है।

तमाम विदेशी पर्यटकों को आने की इजाजत अब नहीं

सिक्किम के गृह मंत्रालय में सयुंक्त सचिव परीना गुरुंग के हस्ताक्षर से बीते सप्ताह जारी

एक अधिसूचना में कहा गया कि कोरोना वायरस के खतरे को ध्यान में रखते हुए विदेशी

पर्यटकों के लिए इनर लाइन परमिट जारी नहीं करने और तमाम पर्यटकों के लिए नाथुला

का परमिट बंद रखने का फैसला किया गया है। सरकार के इस फैसले के बाद कई विदेशी

पर्यटकों को रंग्पो और नेपाल से लगी सीमा चौकियों से लौटा दिया गया है l देशी पर्यटक

भी अब बुकिंग रद्द कराने लगे हैं। गृह मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव अनिल मलिक ने

बताया कि करतारपुर कॉरिडोर से होकर पाकिस्तान के दरबार साहिब तक भारतीय

तीर्थयात्रियों की यात्रा जारी रहेगी, हालांकि मामला अभी भी विचाराधीन है।

बता दें कि वीक डेज में 300 से 400 लोग इस गलियारे का उपयोग करते हैं और वीकेंड पर

यह आंकड़ा दोगुना हो जाता है। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश से सीमा पार यात्री बस और ट्रेन

सेवाएं 15 मार्च से 15 अप्रैल तक बंद रहेंगी। हालांकि, माल गाड़ी की सेवा जारी रहेगी।

उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों में बांग्लादेशी सीमा के साथ बॉर्डर मार्केट अगले आदेश

तक निलंबित रहेंगे। मलिक ने कहा कि सरकार 37 में से 19 लैंड इमिग्रेशन चेकपोस्ट के

जरिए ही अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की आवाजाही की अनुमति देगी और बाकी शनिवार आधी

रात से बंद कर दी जाएगी। यह उपाय चेकपोस्ट के माध्यम से भारत में प्रवेश करने वाले

लोगों की बेहतर स्क्रीनिंग की सुविधा के उद्देश्य से है। बंद किए गए इन 18 चेकपोस्टों में

पाकिस्तान के साथ लगा वाघा-अटारी बॉर्डर भी है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from उत्तर पूर्वMore posts in उत्तर पूर्व »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

3 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!