fbpx Press "Enter" to skip to content

मेरे ऊपर लगे आरोप निराधार और साजिश थेः अर्जित सारस्वत चौबे

  • केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के पुत्र ने स्थिति स्पष्ट की

  • जो गिरफ्तार किये गये वे शांति समिति के लोग थे

  • आज तक कोई आरोप लगाने सामने तक नहीं आया

  • वर्तमान विधायक ने लोगों के लिए कुछ नहीं किया

  • केंद्र में मोदी और राज्य में नीतीश कुमार नेता है

ब्यूरो प्रमुख

भागलपुरः मेरे ऊपर आरोप तो गंभीर लगाये गये थे लेकिन आरोप लगाने के दौरान लोगों

को यह पता नहीं था कि हमलोग जिस कार्यक्रम में भाग ले रहे थे उसका लाइव प्रसारण हो

रहा था। इसलिए जुलूस निकालने के बाद जब दंगा फैलाने का आरोप लगा तो वह आरोप

आज तक साबित नहीं हो पाया। यह सफाई केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के पुत्र और भाजपा

नेता अर्जित सारस्वत चौबे ने राष्ट्रीय खबर के साथ विशेष बात-चीत में दी।

वीडियो में देखिये अर्जित चौबे ने क्या कुछ कहा

उनसे हुई मुलाकात में पहले सवाल ही भागलपुर दंगे में उनका नाम आने को लेकर था।

इस पर उन्होंने कहा कि आरोप लगने के इतने दिनों बाद को कोई साबित नहीं कर पाया

कि हमलोगों ने कोई गलत काम किया था दरअसल अनेक लोगों को यह जानकारी थी कि

फेसबुक पर पूरे कार्यक्रम का लाइव प्रसारण हो रहा था। इसलिए मनगढ़त तरीके से आरोप

लगाने के बाद उसे साबित करने का कोई सवाल ही नहीं उठता। जिनलोगों को पुलिस ने

गिरफ्तार किया था, वे सभी शांति समिति के सदस्य थे। आरोप लगने के बाद हमलोगों

की तरफ से सभी साक्ष्य उपलब्ध कराये गये थे। इस मुद्दे पर उनसे यह पूछा गया था कि

क्या यह आरोप राजनीतिक साजिश के तहत लगे थे तो उन्होंने बचते हुए कहा कि यह

प्रशासन की गलती थी और जानबूझकर यह गलती की गयी थी। उन्होंने कहा कि उनके

अपने ढेर सारे मुसलमान मित्र हैं, जो भागलपुर से लेकर अमेरिका तक में हैं। इनलोगों को

भी पता है कि अर्चित चौबे कैसा व्यक्ति है। साथ ही अर्चित यह कहने से नहीं चूके कि

अगर वह किसी मामले में गलत साबित होते हैं तो सबसे पहले उनके पिता यानी केंद्रीय

मंत्री अश्विनी चौबे ही उनके खिलाफ खड़े होंगे। यह पिता जी की स्पष्ट हिदायत भी है और

घर में परवरिश भी ऐसी ही मिली है।

मेरे ऊपर परिवार के संस्कार का भी प्रभाव तो है

चुनाव में रोहित पांडेय के समर्थन के सवाल पर हो रही चर्चाओं पर विराम लगाते हुए

उन्होंने कहा कि यह सही है कि वह पिछले चुनाव में पार्टी के प्रत्याशी थे। इस बार पार्टी ने

जब फैसला कर लिया है तो पूरी पार्टी उसी प्रत्याशी के पीछे है। उन्होंने साथ साथ कहा कि

पार्टी आगे उन्हें जो भी जिम्मेदारी देगी, उसे वह सहर्ष स्वीकार करेंगे। हो सकता है कि

भविष्य में पार्टी मेरे ऊपर कोई और जिम्मेदारी सौंपे। 

भागलपुर के संदर्भ में श्री चौबे ने कहा कि वर्तमान कांग्रेसी विधायक अजीत शर्मा ने अपने

कार्यकाल में क्षेत्र की जनता के लिए कोई काम नहीं किया है। वह सिर्फ लोगों को भुलावा

देते आये है। साथ ही अर्जित ने स्पष्ट किया कि इस चुनाव में यह स्पष्ट है कि केंद्र में नरेंद्र

मोदी और राज्य में नीतीश कुमार उनके नेता हैं। इसलिए यह चुनाव उसी अनुशासन के

तहत लड़ा जाएगा। इसमें सारे कार्यकर्ता एकजुट होकर पार्टी की जीत सुनिश्चित करने का

काम करेंगे।

चिराग पासवान अपने दिल की करते हैं तो कौन रोकेगा

चिराग पासवान की पार्टी द्वारा चुनाव प्रचार में नरेंद्र मोदी की तस्वीर का उपयोग करने के

सवाल पर श्री चौबे ने कहा कि किसी को कोई कैसे रोक सकता है। हर आदमी की कुछ न

कुछ व्यक्तिगत पसंद होती है। अनेक लोग अपने साथ भगवान की तस्वीर लेकर चलते

हैं। ऐसे में आप किसी को कैसे किसी तस्वीर का इस्तेमाल करने से रोक सकते हैं। लेकिन

इस पर कोई दूसरा विचार इसलिए नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि पार्टी की तरफ से यह

स्पष्ट कर दिया गया है कि अगली बार भी नीतीश कुमार ही इस गठबंधन के नेता होंगे।

इसलिए ऐसे विषयों पर कंफ्यूजन की कोई गुंजाइश नहीं है। 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from चुनावMore posts in चुनाव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बयानMore posts in बयान »
More from बिहार विधानसभा चुनाव 2020More posts in बिहार विधानसभा चुनाव 2020 »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!