Press "Enter" to skip to content

समंदर की गहराई में एलियन जैसी नजर आने वाली मछली मिली देखें वीडियो


  • दुनिया के अनेक राज अब भी छिपे हैं पानी के अंदर

  • देखने में ही यह जीव बहुत भयानक नजर आता है

  • मछुआरा खुद देखकर पहले ही डर गया था

  • इसके वैज्ञानिक विवरण अभी उपलब्ध नहीं

राष्ट्रीय खबर

रांचीः समंदर की गहराई के रहस्यों में से बहुत कुछ अब भी हमारे लिए अनजाना है। कभी

कभार इसके बारे मे जानकारी मिलती है तो हम हैरान हो जाते हैं। समुद्र विज्ञानियों ने

पहले ही कह दिया है कि जितना हमारा विज्ञान अंतरिक्ष के बारे में जानता है, उससे कम

जानकारी आधुनिक विज्ञान को समुद्र की गहराइयों के बारे में है। इसी कड़ी में एक रुसी

मछुआरे को एक अजीब किस्म की मछली मिली है। इस मछली को देखने से ही यह किसी

अन्य ग्रह के प्राणी जैसा नजर आता है। इस मछली की तस्वीर और वीडियो सोशल

मीडिया में वायरल हो चुकी है।

एलियन जैसी नजर आने वाली मछली का वीडियो

इसके पहले भी समुद्र विज्ञान ने अत्याधुनिक यंत्रों की मदद से अनेक ऐसी प्रजातियों का

पता लगाया है जो समंदर की गहराई में रहते हुए इंसानों की जानकारी से गुप्त थे। रोबोट

सबमेरिन के काफी गहराई में पहुंचने की क्षमता और उसमें लगे कैमरों की वजह से उन्हें

देख पाना संभव हुआ है। दरअसल उस गहराई में सूर्य की रोशनी तक नहीं पहुंचने की

वजह से पूरी तरह अंधेरा छाया रहता है। ऐसे अंधेरे में किसी प्राणी को देखना सहज काम

नहीं होता। अत्याधुनिक कैमरों की बदौलत ऐसे जीवों को पहली बार देखा गया है। हाल के

वर्षों में कई ऐसी प्रजातियों की खोज हुई है, जिनके बारे में विज्ञान में पहले कोई सूचना दर्ज

नहीं की गयी थी। साथ ही समंदर की गहराई में कुछ ऐसे जीव भी सकुशल नजर आये हैं,

जो विज्ञान की नजर में विलुप्त प्रजाति मान लिये गये थे।

रुसी मछुआरे द्वारा पकड़ी गयी मछली इसमें सबसे नई जानकारी है। रुस के उत्तरी छोर

पर मछली मारने बेरेंट्स समुद्र में यह मछली पकड़ी गयी है। यह समुद्री इलाका आगे

जाकर आर्कटिक महासागर से मिल जाता है।

समंदर की गहराई से और भी जीव निकले हैं

मछली को पकड़ने वाले ने स्वीकार किया है कि वह खुद भी मछली को देखकर पहले तो डर

गया था। समंदर की गहराई में पायी गयी इस मछली का अब तक वैज्ञानिक नामकरण भी

नहीं कर पाये हैं। इसके विवरणों को दर्ज कर पूर्व के रिकार्ड से उसके इतिहास को खंगालने

का काम चल रहा है। रुसी मछुआरा, जिसका नाम रोमन फेरोस्तोव है ने सोशल मीडिया में

इस मछली की तस्वीर और वीडियो डालकर दुनिया को इसके बारे में सबसे पहले

जानकारी दी है। वह पेशे के तहत एक ट्रॉलर में काम करता है, जो मछली पकड़ने का

कारोबार करती है। उसकी जाल में जो मछली फंसी है, उसके बार में अनुमान है कि यह

करीब 33 सौ फीट की गहराई तक जाल डालता रहा है। मछली का चेहरा ही कुछ ऐसा है कि

उसे देखकर किसी एलियन यानी अन्य ग्रह के प्राणी की याद आती है। ऐसे प्राणियों की

कल्पना हमारे जेहन में फिल्मों की वजह से है। मछुआरे ने मछली के भय से उबरने के बाद

उसकी अनेक तस्वीरें ली और उन्हें सोशल मीडिया में पोस्ट कर दिया। एक आंख वाली यह

मछली देखने में किसी भूतहा प्राणी जैसा नजर आती है। इससे पहले ऐसी मछली कभी

नहीं देखी गयी थी। उसका शरीर काला और चांदी जैसे रंगों वाला है। उसका मुंह भी बड़े ही

अजीब किस्म का है। मुंह के अंदर दांत भी काफी पैने हैं और देखने से वह किसी राक्षस के

जैसा या फिल्मों में देखे गये डायनासोर के जैसा नजर आता है। फेडरोस्तोव ने तब इस

मछली को दूसरी तरफ से देखा तो उसके पेट पर अजीब सा एक निशान भी नजर आया।

वैसे इस मछुआरे की विशेषता है कि वह समंदर की गहराई से पहले भी अजीब किस्म के

जीव पकड़ चुका है।

इस मछुआरे ने पहले भी पकड़े हैं अजीब किस्म के जीव

इस मछली की जानकारी होने के बाद वैज्ञानिक उसके बारे में अधिक जानकारी हासिल

करने की कोशिश कर रहे हैं। त्वरित उपलब्ध रिकार्ड में ऐसे किसी प्राणी को पहले कभी

देखे जाने की कोई सूचना दर्ज नहीं हैं। दूसरी तरफ उसे पकड़ने वाले मछुआरे ने उसकी

नाम ही एलियन फिश यानी दूसरे ग्रह की मछली रख दिया है। सोशल मीडिया में उसके

द्वारा पोस्ट की गयी इस मछली की तस्वीर के साथ साथ पहले पोस्ट किये गये अन्य

जीवों के चित्रों को भी लोग बड़े ही चाव से देख रहे हैं। वैसे विज्ञान जगत इस बात को लेकर

फिर एकमत है कि समंदर की गहराई के बारे में विज्ञान को अभी बहुत कुछ जानना शेष है।

दरअसल अब तक आधुनिक विज्ञान दुनिया भर के समुद्र की गहराइ के पूरे मानचित्र को

भी तैयार नहीं कर पाया है। अब कई देश एक साथ मिलकर समुद्र के अंदर का त्रिआयामी

मैप बनाने के एक अभियान में जुटे हुए हैं।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रुसMore posts in रुस »
More from समुद्र विज्ञानMore posts in समुद्र विज्ञान »

Be First to Comment

Mission News Theme by Compete Themes.