फेक न्यूज के नाम पर हो रहा फर्जी राष्ट्रवाद- अखिलेश यादव

फेक न्यूज के नाम पर हो रहा फर्जी राष्ट्रवाद- अखिलेश यादव
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नईदिल्लीः फेक न्यूज के नाम पर जनता को गुमराह करने का राजनीतिक कारोबार चल रहा है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने यहां आयोजित एक मीडिया संवाद में भाग लेते हुए

फेक न्यूज पर अपनी बेबाक राय रखी।

उन्होंने कहा कि जो लोग फ़ेक न्यूज़ को बढ़ावा दे रहे हैं दरअसलवो देशद्रोही हैं।

उन्होंने कहा कि ये प्रोपेगैंडा है और कुछ लोग इसे बड़े पैमाने पर कर रहे हैं।

अखिलेश ने कहा, “फ़ेक न्यूज़ एक वायरस की तरह है जिससे पूरा का पूरा देश कभी कभी पीड़ित हो जाता है।

इससे लोगों की जान भी चली जाती है, ये कहना भी ग़लत नहीं होगा।”

यादव ने कहा, “इस तरह के प्रचार पहले भी होते रहे हैं, हिटलर और मुसोलिनी के ज़माने भी झूठा प्रचार हो रहा था।

आज हर व्यक्ति ब्रॉडकास्टर हो सकता है, कहीं से भी ख़बर को कहीं तक भी पहुंचा सकता है।

ग़लत सूचना देना या हेरफेर करके सूचना देना भी फ़ेक न्यूज़ ही है।”

उन्होंने कहा, “मैं अपने अनुभव से कह सकता हूं कि जिस समय समाजवादी सरकार थी

उस समय एक तस्वीर वायरल की जाती थी- ट्रक से एक पुलिसकर्मी की जान जाने की तस्वीर।

मैंने गृहसचिव से उस तस्वीर के वायरल होने का सोर्स पता करने के लिए कहा।

फेक न्यूज के लिए एक मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत लड़की को पकड़ा था

पता चला गुड़गांव की मल्टीनेशनल कंपनी में काम करने वाली एक लड़की उस झूठी ख़बर को फैला रही थी।

मुझसे ग़लती हुई कि मैंने उसके ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज नहीं कराई

क्योंकि इससे उसका परिवार प्रभावित हो सकता था।

आज मुझे उस लड़की को सज़ा न दिलवाने का अफ़सोस होता है।”

बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा, “जहां तक दूसरे दल से गठबंधन का सवाल है,

बहुत से दल नहीं चाहेंगे कि गठबंधन हो, उनकी कोशिश होगी कि ये दो विचारधाराएं न मिल जाएं।

डॉक्टर लोहिया की समाजवादी विचारधारा और डॉक्टर आंबेडकर की विचारधारा एक न हो।

लेकिन हमारी कोशिश होगी कि समाज में जिन्हें सबसे ज़्यादा ज़रूरत है,

जो सबसे ज़्यादा दुख में रह रहे हैं, शायद हम उन्हें अपनी विचारधारा से जोड़ पाएं तो हम कामयाब होंगे।

समाजवादी लोग विकास करके जनता को जीतना चाहते हैं, बकवास करके नहीं।

हमारी विचारधारा के क़रीब जो लोग होंगे उनका सहारा ज़रूर लिया जाएगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.