fbpx Press "Enter" to skip to content

एम्स के विशेषज्ञ से ली जाएगा लालू के ईलाज की सलाह

रांचीः एम्स के विशेषज्ञ अब लालू की जांच कर सकते हैं। बहुचर्चित अरबो रुपये के चारा

घोटाला मामले में सजायाफ्ता राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष एवं बिहार के पूर्व

मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की अलग-अलग बीमारियों से संबंधित जांच रिपोर्ट की आज

समीक्षा करने के बाद आठ सदस्यीय मेडिकल टीम ने उनका इलाज रांची के राजेन्द्र

आयुर्विज्ञान संस्थान में ही चलने देने का निर्णय लिया। रिम्स के चिकित्सा अधीक्षक

विवेक कश्यप ने यहां बताया कि मेडिकल टीम ने श्री यादव के इलाज से संबंधित सभी

जांच रिपोर्ट की समीक्षा करने के बाद निर्णय लिया है कि उनका इलाज ठीक से चल रहा

है। उन्होंने बताया कि राजद अध्यक्ष की मुख्य बीमारी किडनी से संबंधित है और रिम्स में

गुर्दा रोग का चिकित्सक (नेफ्रोलॉजिस्ट) उपलब्ध नहीं होने के कारण अब इस रोग के

किसी विशेषज्ञ को बाहर से बुलाकर या फिर श्री यादव को उनके पास भेजकर सलाह ली

जाएगी। श्री कश्यप ने कहा कि यदि विशेषज्ञ नेफ्रोलॉजिस्ट ने कहा कि रिम्स में श्री यादव

का इलाज सही नहीं चल रहा है और उन्हें दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान

(एम्स) भेजा जाना चाहिए तब इसपर विचार किया जाएगा। फिलहाल मेडिकल टीम की

रिपोर्ट के अनुसार श्री यादव का इलाज रिम्स में ही चलेगा। राजद अध्यक्ष का इलाज कर

रहे रिम्स के यूनिट इंचार्ज प्रो. डॉ. उमेश प्रसाद ने इस वर्ष 18 फरवरी को रिम्स प्रबंधन को

पत्र लिखकर मेडिकल बोर्ड गठित करने का आग्रह किया था।

एम्स के विशेषज्ञ ही तय करेंगे कि ईलाज कैसा होगा

पत्र में कहा गया था कि श्री यादव का रिम्स में पिछले डेढ़ साल से इलाज चल रहा है।

न्यायालय ने कहा था कि इलाज कर रहे चिकित्सक को यदि देश के बड़े संस्थान से राजद

अध्यक्ष के स्वास्थ्य की समीक्षा कराने की आवश्यकता महसूस होती है, तो उन्हें वहां भेजा

जा सकता है। उल्लेखनीय है कि पूर्व मुख्यमंत्री श्री यादव दिसंबर 2017 से रांची की बिरसा

मुंडा जेल में बंद हैं। बीमार होने की वजह से उनका इलाज रिम्स के पेइंग वार्ड में किया जा

रहा है। पिछले साल 17 मार्च को उनकी तबीयत बिगड़ने पर पहले रिम्स और फिर उन्हें

दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया। न्यायालय ने उन्हें 11 मई 2019 को इलाज के लिए छह

हफ्ते की जमानत मंजूर की थी। इसे बढ़ाकर 14 और फिर 27 अगस्त किया गया। इसके

बाद अदालत ने 30 अगस्त को श्री यादव को न्यायालय में आत्मसमर्पण करने का निर्देश

दिया था। इसके बाद से वह रिम्स में भर्ती हैं। राजद अध्यक्ष अनियंत्रित मधुमेह, उच्च

रक्तचाप, हृदय रोग, क्रॉनिक किडनी डिजीज (स्टेज थ्री), फैटी लीवर, पेरियेनल इंफेक्शन,

हाइपर यूरिसिमिया, किडनी स्टोन, फैटी हेपेटाइटिस, प्रोस्टेट जैसी बीमारियों से ग्रसित हैं।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!