fbpx Press "Enter" to skip to content

एम्स निदेशक का बयान अगले दो महीनों में फैल सकती है महामारी ब्यूरो

नई दिल्ली: एम्स के निदेशक का बयान पूरे भारतवर्ष को सतर्क करने वाला है। उन्होंने

अपने बयान से देश को संकट के पूर्व ही सतर्क कर देने का काम किया है। कोरोना महामारी

के प्रकोप देश में तेजी से बढ़ रहा देशभर में लगातार बढ़ते जा मामलों को लेकर दिल्ली के

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक डाक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा

है कि जून-जुलाई में कोरोना के केस तेजी से बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि दो चीजें देखने की

जरूरत है, जैसे-जैसे मामले बढ़ रहे हैं, हमारी जांच भी बढ़ी है। अगर हम सफलता चाहते हैं,

तो जांच बढ़ने के बावजूद संक्रमित मरीजों की संख्या कम होनी चाहिए। इसके लिए हमें

सतर्क रहने की जरूरत है।

डॉ। गुलेरिया का कहना है कि लॉकडाउन का बहुत फायदा मिला है। पहला फायदा है कि

मामले जितने बढ़ते, उतने नहीं बढ़े हैं। डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि कब तक कोरोना के

मामले चलेंगे, कितना लंबा यह चलेगा, यह अभी से नहीं कह सकते। लेकिन इतना जरूर

है कि जब पीक पर कोई चीज होती है तो वहीं से वह डाउन होनी शुरू होती है। अब उम्मीद

यही करते हैं कि जून में जब कोरोना के मामले पीक पर होंगे तो उसके बाद मामले धीरे-

धीरे डाउन होना शुरू होंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई, जनता की लड़ाई है।

ऐसे में जनता को सहयोग करना होगा।

एम्स के निदेशक ने कहा अब यह लड़ाई बहुत लंबी चलेगी

सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर, हैंडवाश जैसे बेसिक नियमों का पालन करना होगा।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई लंबे समय तक चलेगी। ऐसे में सबके लाइफस्टाइल में बदलाव

आएगा। आप सबको अपना लाइफस्टाइल बदलना होगा। शॉपिंग मॉल, मूवी थिएटर जाने

पर आपको नए नियम जैसे सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क को अपनाना होगा।

डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से ही मामले ज्यादा नहीं बढ़े। दूसरे देशों

के मुकाबले भारत में कम मामले बढ़े हैं। अस्पतालों ने लॉकडाउन में अपनी तैयारी कर ली

है। डॉक्टर्स को प्रशिक्षण दिए गए हैं।पीपीई किट्स, वेंटिलेटर और जरूरी मेडिकल

उपकरणों के इंतजाम हुए हैं। कोरोना की जांच बढ़ी है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!