Press "Enter" to skip to content

दस सप्ताह बाद फिर एक और छेद बन गया ज्वालामुखी में, देखें वीडियो




ला पाल्माः दस सप्ताह बीत जाने के बाद भी कुंबरे वियेजा ज्वालामुखी की परेशानी अब तक कम होती नजर नहीं आ रही है। बीच में लावा का प्रवाह थोड़ा धीमा होने के बाद फिर वहां एक और छेद बन गया है। अब इस नये छेद से और अधिक तेजी से लावा निकलने लगा है।




वीडियो में देखें वहां की नई स्थिति

इस नये छेद से निकलते लावा की गति भी तेज हैं, इसी कारण वहां समुद्र तक पहुंच रहे लावा के प्रवाह की गति भी तेज हो गयी है। वहां मौजूद लोग और देश विदेश के पर्यटक यह देख पा रहे हैं कि कितनी तेज गति से बहता हुआ यह लावा समुद्र की तरफ जा रहा है।

समुद्र के करीब भी इस लावा के पहुंचने तक अनेक स्थानों पर उबलते लावा के लाल और नारंगी रंग साफ देखे जा रहे हैं। ड्रोन पर लगे कैमरों से लगातार इस स्थिति की निगरानी की जा रही है। दस सप्ताह पूर्व यहां ज्वालामुखी विस्फोट प्रारंभ होने की वजह से वहां से हजारों लोगों को उनके घरों से हटाना पड़ा है।




अब इस तीसरे नये छेद के नजर आने की वजह से कुछ वैज्ञानिक मान रहे हैं कि यह पूरा कुंबरे वियेजा ज्वालामुखी का पहाड़ ही अंदर से पूरी तरह खोखला हो चुका है। इस कारण कभी भी इस पूरे पहाड़ के ध्वस्त होने का खतरा भी बढ़ता ही जा रहा है।

अगर वाकई यह पूरा पहाड़ ही टूट गया तो भीषण तबाही आ सकती है क्योंकि तब लावा का प्रवाह किस तरह और किस गति से होगा, उसका आकलन नहीं किया जा सका है।

दस सप्ताह बाद भी इसके तेवर अब भी विस्फोटक

वर्तमान में तो ढलाने वाले इलाकों से चलता हुआ यह लावा अटलांटिक महासागर तक पहुंच रहा है। वहां समुद्र में भी लावा के गिरने से सख्त जमीन तैयार होती चली जा रही है।

दरअसल यह गर्म लावा समुद्र के जल के संपर्क में आने की वजह से ही ठंडा होकर जम जाता है। अब ज्वालामुखी विस्फोट के पहाड़ पर लगातार तीन छेद बन जाने की वजह से अगला क्या होगा, इस बारे में वैज्ञानिक यकीन के तौर पर कुछ बता पाने की स्थिति में नहीं है क्योंकि दस सप्ताह के बाद भी वहां से ज्वालामुखी के अब कमजोर होने के कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं।



More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »

One Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: