fbpx Press "Enter" to skip to content

वोकेशनल कोर्स मे नये सत्र में एडमिशन के लिए कुलपति ने दिये निर्देश

रांची : वोकेशनल कोर्स संचालन व एडमिशन संबंधी मुद्दों पर रांची विश्वविद्यालय के

कुलपति ने निर्देश दिया और बताया कि विभिन्न अंगीभूत व संबद्ध कॉलेजों में स्नातक

स्तर पर एक दर्जन से अधिक वोकेशनल कोर्स संचालित होते हैं। कुलपति डॉ. रमेश कुमार

पांडेय के निर्देश पर वोकेशनल कोर्स के को-आर्डिनेटर डॉ. मुकुंदचंद मेहता ने सभी कॉलेजों

से कहा है कि वह नये सत्र में वोकेशनल कोर्सों में नामांकन शुरू कर दें। मारवाड़ी कॉलेज व

रामलखन सिंह यादव कॉलेज ने ऑनलाइन नामांकन शुरू कर दिया। वहीं अन्य कॉलेजों

में फार्म चार व पांच अगस्त से मिलना शुरू हो जाएगा। डॉ. मेहता ने कहा कि वोकेशनल

कोर्स के बाद रोजगार की बेहतर संभावनाएं हैं। कोर्स का शुल्क भी कम है।

वोकेशनल कोर्स की कहां क्या है स्थिति

निर्मला कॉलेज में स्रातक स्तर पर तीन वोकेशनल कोर्स संचालित होते हैं। जिसमें बीबीए

में 60, बीसीए में 60, फैशन डिजाइनिग में 60, आइटी में 60 वहीं योगदा सत्संग कॉलेज में

बीबीए में 75, बीसीए में 75, आइटी में 75 सीटे हैं। मारवाड़ी कॉलेज बीसीए की 140, आइटी

के लिए 140, बायोटेक में 70, बीसीएम में 80, बीबीए में 140, एफडी में 80 सीटे हैं। रांची

वीमेंस कॉलेज में बायोटेक्नोलॉजी में 90, बीबीए में 130, सीएनडी में 60, कंप्यूटर

अप्लीकेशन में 120, फैशन डिजाइनिग में 60, इंफोर्मेशन टेक्नोलॉजी में110 सीटे हैं। डोरंडा

कॉलेज में बीबीए 200, बीसीए में 200, आइटी में 100 सीटे हैं। वहीं गोस्स्रर कॉलेज में पांच

वोकेशनल कोर्स संचालित होते हैं। जिसमें से मासकॉम की 50, बायोटेक की 50, बीबीए की

125, बीसीए की 125आइटी की 125 सीटे हैं। रामलखन सिंह यादव कॉलेज में दो

वोकेशनल कोर्स संचालित हो रहे हैं। जिसमें से बीबीए की 60 और बीसीए की 60 सीटे हैं।

कॉलेजों में स्नातक स्तर पर संचालित वोकेशनल कोर्सों में नामांकन फार्म भरने के लिए

इंटरमीडिएट 45 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए। लगभग सभी कॉलेजों में

बीसीए, बीबीए व आइटी कोर्सों में नामांकन मेरिट पर होता है। वहीं फैशन डिजाइनिग,

बायोटेक, कंप्यूटर मेंटेनेंस जैसे कोर्सो में सीधे नामांकन हो रहा है। कोर्स शुल्क विवि द्वारा

प्रति वर्ष 10,000/- रुपये निर्धारित किया गया है। वहीं एससी व एसटी को 8,000/- रुपये ही

लगते हैं। सभी उपरोक्त पाठ्य कोर्स कुल तीन वर्षों के समयकाल का है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पत्रिकाMore posts in पत्रिका »
More from बयानMore posts in बयान »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from विज्ञानMore posts in विज्ञान »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!