Press "Enter" to skip to content

पाकुड़ हिरणपुर लिट्टीपाड़ा को अडानी पावर ने आगाह किया




बिजली तार से दूरी बनाकर रखें कभी भी चालू होगी लाइन

पाकुड़ : पाकुड़ हिरणपुर लिट्टीपाड़ा के कई गावों से होकर हाई पावर उच्य शक्ति विद्युत का प्रवाह किसी भी समय प्रारम्भ हो सकता है। इसे लेकर अदानी पावर झारखंड लिमिटेड ने अपनी सूचना जारी कर दी है।




सूचना में आम लोगो को सावधान करते हुए कहा गया है कि 400 केबी द्वी परिपथ विद्युत संचरण लाइन अदानी पावर प्लांट का निर्माण गोड्डा से पाकुड़ का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है । जो लिट्टीपाड़ा के मुसबिल, डूमरो , अनीविता, मोहनपुर, साधूतरी, सकला, खैरबनी,केसरी पहाड़,मुरगबनी,बस्को पहाड़, डूमर वीट्टा, घोड़ पहाड़ी, छोटा बड़ा बसंत पहाड़ी, कोटल पड़ा, जोरदिह, जागेश्वर, असंबनी,कमलघटी, हथिगड़ आदि।

हिरणपुर के बरमसिया चोकि ढाप, तुरसा डीह,परकोला,धवा डंगाल, माजिल्डिह,शित पहाड़ी,कस्तूरी,रघुनाथ पुर,,,,आदि। पाकुड़ के पोखरिया, चौकी ढाप,भुरकुंडा, कुसमा डांगा, बडा कन्हुपुर,अमदाबाद, बडा घनसरिया,दुबराज पुर,किलबिल नगर, बैधनाथ पुर,बेहरा पोखर, मारुवापहड़ी आदि ग्रामीण एव शहरी क्षेत्र से 15 जनवरी के बाद किसी भी क्षण उच्य शक्ति विद्युत ऊर्जा प्रवाह किया जा सकता है।




पाकुड़ हिरणपुर लिट्टीपाड़ा लाइन के सभी गांवों को आगाह किया

15 जनवरी के बाद से उक्त स्थल से गुजरे तार, विद्युत खंभा, टावरों अन्यान्य समान छूने खंभा में चढने का प्रयास ना करें, इससे जान माल की हानि हो सकता है। सूचना एंव हिदायद के बाबजूद यदि कोई व्यक्ति तार छूने, ख्मभे में चड़ने का का कोशिश करता है तो इसके नुकसान का अदानी पावर झारखंड लिमिटेड किसी भी प्रकार का उत्तरदाई/ जिम्मेवार नहीं होंगे।

मालूम हो कि अब किसी भी क्षण इन तारों में विद्युत प्रवाह हो सकता है। अतः दूरी बनाए रखे और अपनी जीवन कि रक्षा स्वयं करें। कई बार देखा जाता है कि ग्रामीण खंभे में चढ़ने का प्रयास करते। सावधानी बरतें, सावधानियां से ही अपनी जान सुरक्षित रह सकती है।

इसके पहले भी कई बार ग्रामीणों की लापरवाही की वजह से बड़ा हादसा होने की वजह से ही इस पाकुड़ हिरणपुर लिट्टीपाड़ा लाइन के आस पास के गांवों के लोगों को अडानी पावर से तार और बिजली के खंभों से दूरी बनाकर रखने की यह अपील जारी की है।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पाकुड़More posts in पाकुड़ »
More from राज काजMore posts in राज काज »

One Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: