fbpx Press "Enter" to skip to content

रुस ने कड़ी कार्रवाई की तो फेसबुक का फर्जीवाड़ा सामने आया

वाशिंगटनः रुस ने कड़ी कार्रवाई करते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर जुर्माना

ठोंक दिया था। दरअसल वहां के कानून के तहत ऐसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों को वहां

कारोबार करने के लिए अपना सर्वर वहीं रखने की आवश्यकता है। इस नियम का पालन

नहीं करने की वजह से रुस ने फेसबुक पर आर्थिक जुर्माना ठोंकने के बाद उसे कारोबार

समेटने का निर्देश दिया था। रुस की कड़ी कार्रवाई के बाद अब असली फर्जीवाड़ा सामने

आने लगा है। सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने रुस से संबंधित फर्जी खातों को हटा दिया

है। फेसबुक ने गुरुवार को जारी बयान में कहा, ‘‘आज हमने फेसबुक पर 49 खातों, 69

पेजों और इंस्टाग्राम के 85 खातों तथा अन्य इंटरनेट प्लेटफॉर्म पर से विदेशी प्रभाव वाले

खातों को हटा दिया है।’’ कंपनी ने कहा कि खातों को घाना और नाइजीरिया में स्थानीय

नागरिकों द्वारा रूस के व्यक्तियों की ओर से संचालित किया जा रहा था। उन्होंने कहा कि

अमेरिकी चुनाव से संबंधित कोई गतिविधि नहीं पायी गयी। अमेरिकी मीडिया ने गुरुवार

को बताया कि ट्विटर ने घाना और नाइजीरिया में रूस से संबंधित 71 खातों को भी हटा

दिया है।

रुस ने कई बार दी थी फेसबुक को चेतावनी

उल्लेखनीय है कि इस किस्म के अनेक फर्जी एकाउंट भारत में भी लगातार सक्रिय हैं।

इनमें से कुछ तो ठगी करने वालों के हैं जो साइबर ठगी के कारोबारी हैं। कुछ ऐसे लोगों ने

भी विदेशी चेहरों के नाम पर अपने एकाउंट बना रखे हैं, जो दरअसल किसी राजनीतिक

विचारधारा के प्रसार का काम करते हैं। कई दलों के साइबर सेलों में भी ऐसे फर्जी एकाउंट

के माध्यम से सूचनाओं का धड़ल्ले से प्रसारण किया जाता है। इससे पहले भी कैब्रिज

एनालाइटिका के माध्यम से भारतीय चुनाव को प्रभावित करने की कोशिशों का खुलासा

हुआ था। उसके बाद से कुछ फर्जी खातों को बंद भी किया गया था। दूसरी तरफ खुद रुस ने

कई स्तरों पर इस बात का खंडन किया था कि अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव में वह परोक्ष

तौर पर सोशल मीडिया पर किसी खास प्रत्याशी के समर्थक का मुहिम चला रहा था।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

Open chat
Powered by