Press "Enter" to skip to content

ला पाल्मा द्वीप पर पांच से ऊपर का भूकंप महसूस किया गया




ला पाल्माः ला पाल्मा द्वीप पर मौजूद स्थानीय लोगों और पर्यटकों ने आज रिचेटर स्केल पर पांच




से अधिक के भूकंप को आज महसूस किया। वैज्ञानिक गणना के मुताबिक भूकंप का केंद्र धरती की

सतह से करीब 36 किलोमीटर की गहराई में था। इसके अलाव कम गहराई से भी भूकंप के छोटे छोटे

झटके वैज्ञानिक उपकरणों में दर्ज किये गये हैं। पिछले चौबीस घंटों के भीतर ऐसे छोटे बड़े मिलाकर

कुल 75 भूकंप आये हैं। लेकिन ज्वालामुखी का विस्फोट अब भी जारी है और समुद्र में अतिरिक्त

लावा के पहुंचने की वजह से नई जमीन भी तैयार होती जा रही है। ला पाल्मा द्वीप पर रिचेटर स्केल

पर पांच से अधिक के भूकंप कम ही आये हैं। इसलिए समझा जाता है कि धरती की गहराई से मैग्मा

के बाहर आने की वजह से वहां जो शून्य पैदा हो रहा है, उससे आंतरिक संरचना बदलती जा रही है।

इससे एक और बड़े भूकंप की आशंका बनी हुई है। दूसरी तरफ इतने दिनों बाद भी ज्वालामुखी का

प्रवाह अब पहले के मुकाबले थोड़ा कम होता हुआ नजर आ रहा है। लेकिन इससे ज्वालामुखी के शांत

होने की कोई उम्मीद नहीं बनती है। इसके पहले भी कई बार लावा का प्रवाह कम होने के बाद वह




दोबारा से तेज हो गया है। अभी भी ज्वालामुखी से निकले वाले धुआं और राख के बादल आसमान

पर करीब ढाई किलोमीटर की ऊंचाई तक पहुंच रहे हैं। वैसे ला पाल्मा द्वीर पर आ रहे भूकंपों को

वैज्ञानिक कोई अच्छा संकेत नहीं मानते हैं। वैज्ञानिकों ने साफ कर दिया है कि धरती की गहराई में

जो कुछ घटित हो रहा है उसके बारे में सिर्फ अनुमान ही लगाया जा सकता है। लेकिन पूर्व के रिकार्डों

के मुताबिक यहां कभी भी इससे भी बड़ा भूकंप आ सकता है।

ला पाल्मा द्वीप पर कभी भी बड़े भूकंप का खतरा

इसलिए लोगों को पहले से ही इसके बारे में सतर्क कर दिया गया है। आज सुबहर करीब तीन बजकर

37 मिनट पर आये इस बड़े भूकंप को ला पाल्मा द्वीप के हजारों लोगों ने महसूस किया है। अब तक

इस आकार के भूकंप कई बार आ चुके हैं। इस बार की विशेषता यह है कि ज्वालामुखी देखने आये

पर्यटकों ने भी इसे महसूस किया है। फिलहाल यहां जीवंत ज्वालामुखी को देखने के लिए देश विदेश

के पर्यटकों की भीड़ लगी हुई है। 



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from विज्ञानMore posts in विज्ञान »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: